Advertisements

अनिल का दर्द, साथी मंत्री नहीं करते HELP

- Advertisement -

मंडी। ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मंत्री अनिल शर्मा अपने ही एक कैबिनेट सहयोगी से नाखुश नजर आ रहे हैं। विकास में बाधा पैदा करने वाले यह कैबिनेट सहयोगी मंडी जिला से ही संबंध रखते हैं। इस बात को खुद अनिल शर्मा ने स्वीकार किया है। सोमवार को सदर ब्लॉक कांग्रेस कमेटी की देवधार में हुई बैठक में कैबिनेट मंत्री अनिल शर्मा विशेष रूप उपस्थित हुए। बैठक के दौरान उन्होंने अपनी ही सरकार के एक कैबिनेट मंत्री से सहयोग न मिलने पर रोष जाहिर किया।

  • ग्रामीण विकास मंत्री का अपने की कैबिनेट सहयोगी पर निशाना
  • कहा, सदर हलके के विकास में बाधा पैदा कर रहे साथी मंत्री कैबिनेट सहयोगी
  • आपसी सहयोग से कैबिनेट में रखी पर भी नहीं करते समर्थन
  • anil-sharmaकार्यकर्ताओं से सरकार की नीतियां घर-घर पहुंचाने का आह्वान

अनिल शर्मा का कहना है कि जब वह अपने सहयोगी कैबिनेट मंत्री के विभाग से संबंधित कोई मांग रखते हैं तो मंत्री महोदय का उन्हें कोई सहयोग नहीं मिलता, जबकि वह अपने विभागों से संबंधित मांगों पर उक्त कैबिनेट मंत्री को पूरा सहयोग देते हैं। यहां तक कि वह आपसी बातचीत में तय बात को भी कैबिनेट में समर्थन नहीं करते हैं।  उन्होंने कहा कि विकास मंत्रियों के आपसी सहयोग और तालमेल से ही होता है। हालांकि अनिल ने दूसरे मंत्री का नाम तो नहीं लिया, लेकिन इतना जरूर कहा कि मंत्रियों को आपसी तालमेल के साथ काम करना चाहिए। 

अनिल शर्मा ने सदर ब्लॉक कांग्रेस के सभी पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं को निर्देश दिए कि वह घर-घर जाकर पार्टी और सरकार की नीतियों का प्रचार प्रसार करें। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने अपने चार साल के कार्यकाल में अभूतपूर्व विकास कार्य किए हैं। प्रदेश के लोगों ने जो मांगा सीएम वीरभद्र सिंह ने दिल खोल कर दिया। अब कार्यकर्ताओं को घर-घर जाकर इसका प्रचार करने की जरूरत है।

Advertisements

- Advertisement -

1 Comment
  1. shaila thakur says

    पार्टियों के नेताओं में गुटबाजी कभी खत्म नहीं होती इसी के चलते ये सब तो चलता रहता है।

%d bloggers like this: