करवा चौथ व्रत कथा : वीरावती ने गंवाए थे पति के प्राण

0

बहुत समय पहले इन्द्रप्रस्थपुर के एक शहर में वेदशर्मा नाम का एक ब्राह्मण रहता था। वेदशर्मा का विवाह लीलावती से हुआ था जिससे उसके सात महान पुत्र और वीरावती नाम की एक गुणवान पुत्री थी। सात भाइयों की वह अकेली बहन थी जिसके कारण वह अपने माता-पिता के साथ-साथ अपने भाइयों की भी लाडली थी। जब वह विवाह के लायक हो गई तब उसकी शादी एक उचित ब्राह्मण युवक से हुई। शादी के बाद वीरावती जब अपने माता-पिता के यहां थी तब उसने अपनी भाभियों के साथ करवा चौथ का व्रत रखा।

करवा चौथ के व्रत के दौरान वीरावती को भूख सहन नहीं हुई और कमजोरी के कारण वह मूर्छित होकर जमीन पर गिर गई। सभी भाइयों से बहन की दयनीय स्थिति सहन नहीं हो पा रही थी। वे जानते थे वीरावती चन्द्रमा के दर्शन किए बिना भोजन ग्रहण नहीं करेगी चाहे उसके प्राण ही क्यों न निकल जाएं तभी उन्होंने एक योजना बनाई जिससे उनकी बहन भोजन कर ले। उनमें से एक भाई कुछ दूर वट के वृक्ष पर हाथ में छलनी और दीपक लेकर चढ़ गया। जब वीरावती मूर्छित अवस्था से जागी तो उसके बाकी सभी भाइयों ने उससे कहा कि चन्द्रोदय हो गया है और उसे छत पर चन्द्रमा के दर्शन कराने ले आए। वीरावती ने कुछ दूर वट के वृक्ष पर छलनी के पीछे दीपक को देख विश्वास कर लिया कि चन्द्रमा वृक्ष के पीछे निकल आया है। अपनी भूख से व्याकुल वीरावती ने दीपक को चन्द्रमा समझ अर्ध्य अर्पण कर अपना व्रत तोड़ा। वीरावती ने जब भोजन करना प्रारम्भ किया तो उसे अशुभ संकेत मिलने लगे। पहले कौर में उसे बाल मिला, दूसरे में उसे छींक आई और तीसरे कौर में उसे अपने ससुराल वालों की तरफ से सूचना मिली।

ससुराल पहुंचने के बाद उसने अपने पति के मृत शरीर को पाया। अपने पति के मृत शरीर को देखकर वीरावती रोने लगी और करवा चौथ के व्रत के दौरान अपनी किसी भूल के लिए खुद को दोषी मान कर विलाप करने लगी। उसका रोना सुनकर देवी इन्द्राणी, वीरावती को सान्त्वना देने के लिए पहुंची। वीरावती ने देवी इन्द्राणी से पूछा कि करवा चौथ के दिन ही उसके पति की मृत्यु क्यों हुई ? वीरावती का दुःख देखकर देवी इन्द्राणी ने उससे कहा कि उसने चन्द्रमा को अर्ध्य अर्पण किये बिना ही व्रत को तोड़ा था जिसके कारण उसके पति की असामयिक मृत्यु हो गई। देवी इन्द्राणी ने वीरावती को करवा चौथ के व्रत के साथ-साथ पूरे साल में हर माह की चौथ को व्रत करने की सलाह दी और उसे आश्वासन दिया कि ऐसा करने से उसका पति जीवित लौट आएगा। इसके बाद वीरावती सभी धार्मिक कृत्यों और मासिक उपवास को पूरे विश्वास के साथ करती। अन्त में उन सभी व्रतों से मिले पुण्य के कारण वीरावती को उसका पति पुनः प्राप्त हो गया।

You might also like More from author

Leave A Reply