सर्दियों में खाएं सोया का साग

0

इन दिनों हरी पत्तेदार सब्जियों की बहार है। अनेक ताज़ी पत्तेदार सब्जियां जैसे पालक , मेथी , सोया , बथुआ , सरसों मिल रही हैं सोया इसमें अपना अलग ही औषधीय महत्व रखता है।वैसे तो सोया के पत्ते सौंफ के पौधे की तरह दिखते हैं इसके बीज भी सौंफ की तरह ही पर थोड़े बड़े होते हैं। सर्दियों में मेथी सोया या पालक-सोया, मूंग की दाल -सोया ऐसी सब्जियां बाजरे या मक्के की रोटी के साथ बड़े चाव से खाई जाती हैं। 

  • पेट में गैस होना, अजीर्ण, भूख न लगना, जैसी गड़बड़ियों पर यह भाजी गुणकारी होती है।
  • उग्र गंध होने से यह कई बार नापसंद की जाती है पर यह बहुत गुणकारी और औषधीय है।
  • इसमें अनेक औषधीय तेल होते हैं जिसमें से युगेनॉल तेल रक्‍तशर्करा नियंत्रित करता है।इसलिए यह सब्जी मधुमेह के रोगियों के लिए बहुत अच्छी है।

  • इसमें मेथी व पालक की तरह फॉलिक ऍसिड व महत्त्वपूर्ण क्षार होते हैं।
  • जिनकी जीवनशैली बैठे- बैठे कार्य करने की है उनके लिए यह बहुत अच्छी सब्जी है।कम शारीरिक श्रम के कारण पेट भारी लगना , भूख कम लगना , अफारा , अजीर्ण आदि अनेक समस्याओं का निश्‍चित निदान यह सब्जी है। यह अनिद्रा के लिए उपयोगी है.
  • उच्च रक्तचाप,गुर्दा रोग, सिर दर्द ,हृदय आदि पर इसका सकारात्मक प्रभाव देखा गया है।
  • गंभीर हिचकी, और खांसी के लिए इसका प्रयोग करें।यह बलगम हटाती है।
  • इसके पत्ते और जड़ को पीसकर लगाने से गठिया का दर्द और सूजन ठीक होता है।
  • इसके पत्तों पर तेल लगाकर गर्म कर बांधने से फोड़ा जल्दी पककर फूट जाता है।

Leave A Reply