Advertisements

शराब तस्करी और धोखाधड़ी के दोषी को 5 साल की कैद

मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी की अदालत ने सुनाई सजा

- Advertisement -

नाहन। मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी सिरमौर की न्यायाधीश डॉ. आबीरा बासू की अदालत ने शराब तस्करी और धोखाधड़ी के मामले में दोषी को विभिन्न धाराओं के तहत पांच साल की साधारण कैद की सजा सुनाई है। दोषी को अदालत ने आबकारी अधिनियम की धारा 39(1)ए के तहत पांच साल, भारतीय दंड संहिता की धारा 420 के तहत 3 साल, 181 एमवी एक्ट के तहत 7 दिन और 192 एमवी एक्ट में 7 दिन के साधारण कारावास की सजा सुनाई है। अदालत ने इन्हीं धाराओं के तहत दोषी पर 155500 रुपये का जुर्माना भी लगाया है।

मामले की जानकारी देते हुए सहायक जिला न्यायवादी रूमिंद्र बैंस ने बताया कि मामला 22 सितंबर 2012 को हरियाणा राज्य की सीमा से एक ट्रक नंबर यूपी 17ए-4658 ने कालाअंब बैरियर पर हिमाचल में प्रवेश किया तो पुलिस ने उसे जांच के लिए रोका। इस दौरान ट्रक चालक नरेश कुमार पुत्र रामप्रसाद निवासी कैलाशपुर, सोनीपत (हरियाणा) पुलिस को देखकर हड़बड़ा गया। पुलिस ने शक के आधार पर जब ट्रक पर लगी तिरपाल हटाकर तलाशी ली तो फीड व तुड़ी से भरे कट्टों के नीचे भारी मात्रा में शराब की खेप बरामद की।

पुलिस ने ट्रक में अंग्रेजी शराब की 525 पेटियां मौके पर पकड़ीं। इसके बाद कालाअंब पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। मामले की तफ्तीश में पुलिस ने पाया कि ट्रक में लगी नंबर प्लेट भी फर्जी लगाई गई थी। पता चला कि ट्रक का असल नंबर एचआर 61-4757 था, जो आरटीओ भिवानी में रजिस्टर्ड है।

सहायक जिला न्यायवादी रूमिंद्र बैंस ने बताया कि पुलिस की तफ्तीश पूरी होने पर चालक के खिलाफ अदालत में चालान पेश किया गया। वीरवार को न्यायाधीश डॉ. आबीरा बासु की अदालत ने तमाम दलीलों व साक्ष्यों के आधार पर दोषी नरेश कुमार को विभिन्न धाराओं के तहत पांच साल के कारावास समेत जुर्माना अदा करने की सजा सुनाई है।

Advertisements

- Advertisement -

%d bloggers like this: