- Advertisement -

तुगलकी फरमान पर खिलाड़ियों की नाराजगी के बाद खट्टर का यू टर्न

0

- Advertisement -

नई दिल्ली। हरियाणा सरकार द्वारा खिलाड़ियों की कमाई का एक तिहाई हिस्सा स्पोर्ट्स काउंसिल को देने के आदेश से मचे बवाल पर खट्टर सरकार ने यू टर्न लिया है। सीएम मनोहर लाल खट्टर ने इस नोटिफिकेशन पर अगले आदेश तक रोक लगा दी है। 

बबीता फोगट के ट्वीट के जवाब में सीएम मनोहरलाल खट्टर ने ट्वीट करके नोटिफिकेशन पर रोक लगाने की जानकारी दी। खट्टर ने कहा, खेल विभाग की संबंधित फाइल मुझे दिखाई गई है। 30 अप्रैल को जारी की गई अधिसूचना पर अगले आदेश तक रोक लगाई गई है। हमें अपने खिलाड़ियों के योगदान पर गर्व है और मैं उन्हें आश्वस्त करता हूं कि उन्हें प्रभावित करने वाले सभी मुद्दों पर विचार किया जाएगा।  

बता दें कि हरियाणा सरकार के 30 अप्रैल के नोटिफिकशन के अनुसार खिलाड़ियों को कमर्शियल एंडोर्समेंट और प्रोफेशनल स्‍पोटर्स के ज़रिए होने वाली कमाई का एक तिहाई हिस्सा हरियाणा स्टेट स्पोर्ट्स काउंसिल को देने के लिए कहा था। नोटिफिकेशन में कहा गया था कि इससे मिलने वाले पैसे का इस्तेमाल राज्य में खेल के विकास के लिए किया जाएगा। सरकार के इस फैसले का पहलवान बबीता फोगाट और योगेश्वर दत्त ने  विरोध किया था। बबीता ने ट्वीट में कहा था कि सरकार को पता है कि एक खिलाड़ी कितनी मेहनत करता है। वो कैसे एक खिलाड़ी से उसकी कमाई का एक तिहाई मांग सकते हैं। मैं इसका समर्थन नहीं करती हूं।

वहीं, पहलवान योगेश्‍वर दत्‍त ने ट्वीट करके कहा था कि यह बिना सिर-पैर का तुगलकी फरमान है। उन्‍होंने कहा था कि अब इससे हरियाणा के नए खिलाड़ी पलायन करेंगे और साहब इसके लिए आप जिम्‍मेदार हैं। खिलाड़ियों की इन तीखी प्रतिक्रियाओं पर हरियाणा सरकार को अपने फैसले पर पुनर्विचार करने की जरूरत समझ में आ गई है। फिलहाल सरकार ने आदेश पर रोक लगा दी गई है।

- Advertisement -

Leave A Reply