Advertisements

एक अमेरिकी ने जाना Shahpur के बच्चों का दर्द, सात समंदर पार से भेजी सौगात

अमेरिका के नागरिक ने बच्चों के लिए बैग, पेंसिल, कापियां, फोल्डर, शॉपनर व रबर भेजे

- Advertisement -

शाहपुर। सात समंदर पार से एक तोहफा आया है। तोहफे में कोई बड़ा कीमती समान तो नहीं पर एक ऐसी इंसानियत छिपी है, जिसकी कोई कल्पना नहीं कर सकता है। शाहपुर विधानसभा क्षेत्र की पंचायत कुठारना के प्राइमरी स्कूल निहारकी के बच्चों के लिए ऐसा ही एक तोहफा अमेरिका के टेक्सास ऑस्टिन शहर से अल्पेश शाह ने भेजा है। अल्पेश शाह गुजरात से हैं, लेकिन अब अमेरिका के नागरिक हैं। उन्होंने बच्चों के लिए बैग, पेंसिल, कापियां, फोल्डर, शॉपनर व रबर आदि भेजे हैं।

बता दें कि प्रयास से परिवर्तन तक एक संस्था क्षेत्र के प्राइमरी स्कूलों में बच्चों को पाठक व लेखन सामग्री आदि उपलब्ध करवाती है। साथ ही जो बच्चे पढ़ नहीं पाते हैं, उनके लिए ड्रेस व जूते आदि भी संस्था देती है। संस्था पिछले एक साल से इस पुण्य कार्य में लगी है। इसी संस्था के अध्यक्ष कार्निक पाधा ने हाल ही में एक वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर डाला था। इसी वीडियो को देखकर अमेरिका के टेक्सास के ऑस्टिन शहर में रह रहे भारतीय मूल के अल्पेश शाह ने निहारकी स्कूल के बच्चों के लिए बैग, कापियां, पेंसिंल व शॉपनर आदि भेजे हैं।

आपको बता दें कि जो सामान भेजा गया है, उसकी कस्टम ड्यूटी ही दस हजार अदा की गई है। प्रयास से परिवर्तन तक संस्था के अध्यक्ष कार्निक पाधा ने बताया कि उन्होंने एक वीडियो सोशल मीडिया में डाला था, उसी वीडियो को देखकर अमेरिका में रह रहे अल्पेश शाह ने पाठन व लेखन आदि सामग्री भेजी है। उन्होंने कहा कि उनके द्वारा भेजी सामग्री बच्चों को बांट दी गई है। साथ ही उन्होंने अल्पेश शाह का धन्यवाद किया है। उन्होंने कहा कि उनकी संस्था पिछले एक साल से प्राइमरी स्कूल के बच्चों को पेंसिंल, कापियां, बैग व अन्य सामग्री उपलब्ध करवा रही है। उन्होंने कहा कि संस्था का उद्देश्य ही यह है कि कोई बच्चा शिक्षा से छूट न जाए।

Advertisements

- Advertisement -

%d bloggers like this: