Advertisements

कसौली गोलीकांड : गुस्साए Supreme Court ने हिमाचल सरकार से कल तक मांगा जवाब

Angry Supreme Court asks for status report by tomorrow on the murder of women officer in Kasauli

- Advertisement -

नई दिल्ली। हिमाचल प्रदेश के कसौली में असिस्टेंट टाउन प्लानर की ड्यूटी के दौरान हुई हत्या पर सुप्रीम कोर्ट ने कड़ा संज्ञान लिया है। इस मामले में कोर्ट ने हिमाचल सरकार को अधिकारी को पर्याप्त सुरक्षा मुहैया न करवाने के लिए फटकार लगाते हुए कल यानी गुरुवार को जवाब मांगा है। जस्टिस मोदन लोकुर व जस्टिस दीपक गुप्ता की बैंच ने कहा कि मामला उनके संज्ञान में है। अधिकारी सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन करवाने गई थी लिहाजा उनकी सुरक्षा की जिम्मेदारी राज्य सरकार की थी। सरकार ने अपनी जिम्मेदारी नहीं निभाई जो चिंताजनक है। इस मामले की सुनवाई कल होगी, जहां हिमाचल सरकार को अपनी स्टेट्स रिपोर्ट पेश करनी होगी।

कसौली के होटल मालिक ने चलाई थी गोलियां

आपको बता दें कि एनजीटी और Supreme Court के आदेशानुसार 13 होटलों के अवैध कब्जे गिराने के लिए TCP व लोक निर्माण विभाग की टीम मंगलवार को मौके पर पहुंची थी। असिस्टेंट टाउन प्लानर शैल बाला मंगलवार को सुबह 9:30 पर पुलिस अधिकारियों के साथ सुप्रीम कोर्ट के आदेशों की अनुपालना करने कसौली में स्थित शिवालिक और नारायणी होटल में पहुंची और पुलिस सुरक्षा में अवैध निर्माण को गिराने का कार्य आरंभ किया गया। इस पर होटल व्यवसायियों ने विरोध भी किया। कुछ ही देर में मौके पर एसडीएम सोलन आशुतोष गर्ग और डीएसपी परवाणु रमेश शर्मा भी पहुंच गए। उनके समक्ष भी विरोध प्रदर्शन जारी था। शिवालिक होटल और नारायणी होटल मालिकों ने मौके पर जमकर हंगामा किया। यहां तक की नारायणी होटल मालिक ने आत्महत्या करने की धमकी भी दी थी। लेकिन, दोनों अधिकारियों ने स्थिति पर जल्द नियंत्रण कर लिया और होटल व्यवसायियों ने खुद होटल को खाली करने का आग्रह किया, जिसमें होटल व्यवसायियों ने सहमति भी जताई।

स्थिति को नियंत्रण में देख सभी अधिकारी वहां से अगले होटल में चले गए। साथ ही शैल बाला और एसएचओ को होटलों को गिराने का आदेश दे गए। नारायणी गेस्ट हाउस का मालिक आदेशों पर अमल नहीं कर रहा था और जब लोक निर्माण विभाग के कर्मियों ने मौके पर कार्रवाई अमल में लाने के लिए होटल में प्रवेश किया तो कसौली रोड पर नारायणी गेस्ट हाउस के मालिक विजय (54) ने बंदूक तान दी और गोलियां बरसाने लगा। पहली गोली लोक निर्माण विभाग के बेलदार को लगी और दूसरी गोली शैल बाला को लगी। लेकिन विजय यहां पर भी नहीं रुका और फिर उसने दो गोलियां और चलाई जो शैल बाला को लगीं और मौके पर ही उनकी मौत हो गई। जिस समय हादसा हुआ मौकेपर करीबन 50 पुलिस कर्मी मौके पर मौजूद थे। उधर विजय कुमार अभी तक पुलिस की पकड़ से दूर है।

Advertisements

- Advertisement -

%d bloggers like this: