गद्दी प्रकरणः Delhi पहुंची लाठी की गूंज, जनजातीय मोर्चा राष्ट्रीय अध्यक्ष से मिले BJP नेता

4

- Advertisement -

नई दिल्ली। गद्दी समुदाय पर सीएम वीरभद्र सिंह की टिप्पणी का विरोध कर रहे समुदाय के लोगों पर लाठीचार्ज की गूंज दिल्ली पहुंच गई है। दिल्ली में बीजेपी नेताओं ने जनजातीय मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष व सांसद रामविचार नेताम से दिल्ली में मुलाकात की और सारे प्रकरण से उन्हें अवगत करवाया। नेताम ने भी बीजेपी नेताओं को आश्वासन दिया कि वह जल्द ही हिमाचल का दौरा करेंगे। प्रदेश में सभी जाति-जनजातियों को अच्छा वातावरण मिलें, सम्मान के साथ अभिव्यक्ति और विरोध की आजादी मिलें और लाठी का डर खत्म हो, इस प्रकार का माहौल बनाने के लिए प्रदेश जनजाति मोर्चा को एक वृहत कार्य योजना देंगे। 

बता दें कि बीजेपी जनजाति मोर्चा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष त्रिलोक कपूर, प्रदेश बीजेपी प्रवक्ता हेमांशु मिश्रा और प्रदेश मीडिया सह प्रभारी राकेश शर्मा ने आज दिल्ली में जनजातीय मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष, सांसद और छत्तीसगढ़ के पूर्व गृहमंत्री रामविचार नेताम से मुलाकात की। उन्होंने राष्ट्रीय अध्यक्ष जनजाति मोर्चा को बताया कि किस प्रकार हिमाचल प्रदेश में गद्दी समुदाय के लोगों पर Political Atmosphereलाठीचार्ज किया गया और उससे पहले सीएम ने गद्दी समुदाय को कमतर आंकते हुए तंज कसा, जिससे समुदाय की भावनाएं आहत हुई। प्रतिनिधिमंडल ने कांग्रेस सरकार के जनजाति विरोधी विभिन्न निर्णयों और क्रियाकलापों की विस्तारपूर्वक रामविचार नेताम को बताया।

हिमाचल को दौरा करेंगे मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामविचार नेताम

जनजाति मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष रामविचार नेताम ने स्थिति को समझते हुए इस विषय में कड़ा संज्ञान लिया और लाठीचार्ज व अभद्र टिप्पणी पर वीरभद्र सिंह की अलोचना करते हुए कहा कि पूरे देश में जनजाति समाज सांस्कृतिक एकता के लिए जाना जाता है। रामविचार नेताम ने प्रतिनिधिमंडल को आश्वास्त करते हुए कहा कि वह जल्द ही हिमाचल प्रदेश का दौरा करेंगे और जनजाति लोगों से हुए अन्याय के खिलाफ लोगों को जागरूक करते हुए, मोर्चे के प्रदेश पदाधिकारियों और जिलाध्यक्षों के साथ मिलकर आगामी रणनीति तय करेंगे।  रामविचार नेताम ने लाठीचार्ज में घायल समुदाय के लोगों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना की और हिमाचल प्रवास में उनसे मिलने की इच्छा भी जताई है।

- Advertisement -

Leave A Reply

%d bloggers like this: