Advertisements

मेडिकल कॉलेज पर शह और मात

- Advertisement -

शिमला। प्रदेश के अहम जिला हमीरपुर में बनने वाले मेडिकल कॉलेज पर सियासत हावी है। पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार के गृह जिला और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष सुखविंदर सिंह सुक्खू के गृह क्षेत्र नादौन के रंगस में इसका निर्माण होना है। shkullलेकिन स्वीकृति के बाद से ही कॉलेज की स्थापना पर राजनीति जमकर हो रही है। सुक्खू ने नादौन विधानसभा क्षेत्र के अंतिम छोर पर थाइं दा मोड़ के पास जगह स्वीकृत कराई हुई है। जिस पर पेड़ होने के कारण केंद्रीय पर्यावरण और वन मंत्रालय एनओसी देने में पेंच फंसा रहा है। एनओसी न मिलने के कारण ही कॉलेज को हमीरपुर अस्पताल में स्थापित करने की अटकलें भी बीते दिनों जारी रहीं। लेकिन सुक्खू किसी सूरत में इसे नादौन से जाने देने के लिए तैयार नहीं हैं। ये नादौन की जनता के लिए उनका ड्रीम प्रोजेक्ट है और वे इसे भाजपा की केंद्र सरकार के इशारे पर हमीरपुर शिफ्ट करने की किसी कोशिश को सिरे नहीं चढ़ने देंगे। हाल ही में प्रदेश सरकार भी इसे हमीरपुर अस्पताल ने ही स्थापित करने पर विचार कर रही थी, जिसका सुक्खू ने कड़ा विरोध किया। anurag_thakurउन्होंने मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह से मिलकर इस पर नाराजगी जताई। चूंकि कॉलेज को सुक्खू ने ही पूर्व केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री गुलाम नवी आज़ाद से रातों-रात स्वीकृत कराया था। अब भाजपा भी ये नहीं चाह रही कि कॉलेज कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष सुखविंदर सुक्खू के हल्के में स्थापित हो, जिससे कि उन्हें राजनीतिक लाभ मिले। क्योंकि सांसद अनुराग ठाकुर भी हमीरपुर से ही ताल्लुक रखते हैं। लेकिन सुक्खू किसी भी स्थिति में हार मानने को तैयार नहीं। उनकी सीएम से मुलाक़ात के बाद अब रविवार को एमसीआई टीम नादौन के थाइं दा मोड़ में जगह का निरीक्षण करने आ रही है। वे भवन की ड्राइंग और निर्माण के लिए भूमि का चयन करने के साथ ही अन्य बिंदुओं का भी अध्ययन करेगी।

Advertisements

- Advertisement -

1 Comment
  1. Rajesh Sharma says

    यही तो राजनीति है…

%d bloggers like this: