- Advertisement -

मौसम बदल रहा है जरा बच्चों का रखें ध्यान

Children's Care in Changing weather

0

- Advertisement -

आजकल तापमान में उतार-चढ़ाव शुरू हो गया है। दिन को तापमान बढ़ जाता है तो रात में पारा लुढ़क जाता है। ऐसे में थोड़ी असावधानी आपकी सेहत बिगाड़ सकती है। खासकर अगर आपका शरीर कमजोर है तो ऐसी लापरवाही काफी महंगी भी साबित हो सकती है। सबसे पहले बच्चे इनकी चपेट में आते हैं। इसलिए इस मौसम में अपने बच्चों को सर्दी-खांसी, जुकाम, वायरल और दूसरी बीमारियों से बचाने के लिए खास ख्याल रखें। आजकल डॉक्टरों के पास पहुंचने वाले रोगियों में बुखार और सांस की समस्या से पीड़ित लोग अधिक हैं। उनमें ज्यादातर छोटे बच्चे, बुजुर्ग, कमजोर महिलाएं हैं। इस मौसम के वायरस कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता वालों पर अपना असर छोड़ते हैं। ऐसे में आमतौर पर साफ-सफाई का थोड़ा खयाल रखने से 5-7 दिनों में खुद ही ठीक हो जाता है। सावधानियां न बरती जाएं और बुखार लगातार जारी रहे तो निमोनिया या फेफड़े में संक्रमण की समस्या हो सकती है। इसके बाद तो आपको अच्छी तरह से पूरा डॉक्टरी इलाज कराना ही पड़ेगा।

Children Care

 

  • सूप में कुछ अलग आजमाना चाहते हैं, तो काले चने और मूंग दाल का सूप हेल्दी भी होता है और स्वादिष्ट भी। इन्हें पीसकर पेस्ट बना लें और जैसे सूप बनता है वैसे ही बनाएं। स्वाद के लिए काली मिर्च आदि मिलाएं। इससे अच्छा टेस्ट आएगा
  • बच्चों को रोज कम से कम पर्याप्त गिलास पानी पिलायें। जिससे उनके शरीर में पानी की कमी न रहे।
  • घर से निकलने से पहले नाक पर सरसों का तेल लगाएं ताकि वे दूसरे के छींकने या खांसने से निकलने वाले कीटाणुओं से बचे रहें।

  • बच्चों की पानी की बोतल में थोड़ा सा ग्लूकोज और तुलसी के पत्ते डाल कर दें, ताकि उनकी ऊर्जा में कमी न हो । स्कूल से वापस आते ही उन्हें शहद मिलाकर गुनगुना पानी पिलाएं। स्कूल जाते समय उनके हाथो में सेनिटाइजर लगाकर भेजें। इससे वे जल्दी से कीटाणुओं के संपर्क में नहीं आएंगे।
  • बच्चों के खाने में प्याज, हरी सब्जियां, जूस, फल आदि शामिल करें।
  • एक सेब और दही रोज जरूर खिलाएं, इससे वे जल्दी से बीमार नहीं होंगे।
  • आपके बच्चे खेलने जाएं तो उन्हें बता दें कि उन जगहों के पास न खेलें जहां थोड़ा भी पानी इकट्ठा हो।
  • सर्दियों के दिनों में संक्रमण अधिक होता है इसलिए जिस व्यक्ति को सर्दी जुकाम हो उसे मां और बच्चे दोनों से दूरी बना कर रखनी चाहिए। अगर बच्चे को डायरिया की समस्या हो जाती हैं तो उसे तुरंत ही डॉक्टर के पास लेकर जाएं।

- Advertisement -

%d bloggers like this: