CM की चुटकी : जैसे BJP के काम वैसे ही प्रस्ताव, दोनों बेकार

नूरपुर। एक ओर बद्दी में बीजेपी प्रदेश सरकार को घेरने के लिए एक के बाद एक प्रस्ताव ला रही है तो वहीं नूरपुर में सीएम वीरभद्र सिंह ने इन प्रस्तावों को बेकार बताया है।उन्होंने मजाकिया लहजे में कहा कि बीजेपी वाले जैसे काम करते हैं उनके प्रस्ताव भी उसी तरह के हैं। बीजेपी जितने मर्जी प्रस्ताव पारित कर लें और जितनी मर्जी चार्जशीट बना लें, लेकिन प्रदेश की जनता सच्चाई जानती है।

  • बीजेपी गपोड़शंखों की पार्टी, गप्पे मारने के सिवाय कुछ नहीं आता

सीएम वीरभद्र सिंह ने नूरपुर में नशा निवारण केंद्र के शुभारंभ के बाद कहा कि बीजेपी की जैसी राजनीति है वैसा ही उसका राजनीतिक प्रस्ताव भी होगा, जबकि कांग्रेस जो घोषणा करती है उसे पूरा भी करती है। सीएम ने कहा है कि बीजेपी के पास सत्ता में रहते हुए भी कुछ करने को नहीं था और अब भी कुछ नहीं है। बीजेपी तब भी आरोप लगाती थी और अब भी आरोप लगाती है। उनके आरोपों की हम परवाह करने लगे तो प्रदेश में एक भी कार्य न हो। सीएम ने कहा कि बीजेपी बताए कि सरकार ने कौन सी घोषणा की है जो पूरी नहीं हो पाई है। बीजेपी गपोड़शंखों की पार्टी है और गप्पे मारने के सिवाय उन्हें कुछ नहीं आता। सीएम ने कहा कि नूरपुर विधानसभा क्षेत्र में अभी बहुत सारे विकास कार्य होने बाकी हैं। सरकार इस क्षेत्र के विकास के लिए कृतसंकल्प है और तीव्र गति से यहां का विकास सुनिश्चित बनाया जाएगा।

जो नियम तोड़ेगा उसे सजा मिलेगी

क्षेत्र में चल रहे अवैध स्टोन क्रशरों के मामले पर सीएम ने कहा कि जो स्टोन क्रशर चला रहे हैं वह सरकार से अनुमति प्राप्त करें और नियमों के दायरे में खनन करते हुए अपने क्रशर चलाएं। सीएम ने कहा कि क्रशर चाहे बीजेपी के लोगों के हैं या कांग्रेस के लोगों के, दोनों ही कानून से ऊपर नहीं हैं। इसलिए जो भी नियमों को तोड़ेगा उसे कानून के तहत सजा दी जाएगी। उन्होंने क्रशर संचालकों को हिदायत दी की वह अपनी लीज ली हुई भूमि पर तय मानकों के तहत ही खनन करें।

नशा कारोबारियों से सख्ती

सीएम ने नूरपुर क्षेत्र में फैले नशे के कारोबार को खत्म करने और नशा कारोबारियों से सख्ती से निपटने की सरकार की प्रतिबद्धता दोहराई। उन्होंने कहा कि नशे के कारोबारियों के खिलाफ चलाया जा रहा अभियान और भी तेजी से चलाया जाएगा। नशे के समूल खात्मे तक यह अभियान जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि जहां सरकार नशे के सामान की उपलब्धता न हो इस दिशा में काम कर रही है वहीं नशे के मकड़जाल में फंसे युवाओं को इसकी गिरफ्त से बाहर निकलने के लिए नशा निवारण केंद्र अहम रोल अदा करेगा। इस केंद्र से नशे की राह पर भटके युवा फिर से समाज की मुख्यधारा में जुड़ेंगे जोकि नशा कारोबारियों के खिलाफ बड़ी सफलता साबित होगी।

You might also like More from author

Comments