हथेली पर त्रिभुज होता है शुभ

देखने में हमें अपनी हथेली भले ही सामान्य लगे, पर इसके चिन्ह हमारे भविष्य का पता दे देते हैं। मुख्य रूप से हथेली में हमें 8 चिन्ह दिखाई देते हैं – त्रिभुज, क्रॉस, बिंदू, वृत्त, द्वीप, वर्ग, जाल, तथा नक्षत्र। हथेली में त्रिभुज का आकार स्पष्ट दिखाई देता है। यह हथेली में कहीं भी हो सकता है। इसकी कुछ विशेषताएं निम्न हैं …

  • स्पष्ट, निर्दोष और गहरी रेखाओं से बना त्रिभुज शुभ होता है।
  • जितना बड़ा त्रिभुज होगा उतना ही लाभदायक होगा।
  • हथेली के बीच का त्रिभुज बताता है कि व्यक्ति ईश्वर में विश्वास रखने वाला तथा उन्नतिशील व समाज में सम्मानित है।
  • hand2बड़ा त्रिभुज विशाल हृदयता का परिचय देता है जबकि छोटा त्रिभुज व्यक्ति की संकीर्णता का परिचय देता है।
  • किसी की हथेली में बड़े त्रिभुज के अंदर एक और त्रिभुज बन जाए तो वह उच्च पद प्राप्त करता है।
  • शुक्र पर्वत पर त्रिभुज हो तो जातक सरल, मधुर स्वभाव वाला, शान-ओ-शौकत से रहने वाला ऊंचे स्तर का व्यक्ति होता है।
  • यदि यह त्रिभुज टूटा, लहरदार या दूषित हो तो चारित्रिक दोष आ जाता है।
  • मंगल पर्वत पर त्रिभुज हो तो व्यक्ति रणकुशल और युद्ध में वीरता दिखाने वाला होता है तथा राष्ट्रीय पुरस्कारों से सुशोभित होता है। यही त्रिभुज दूषित हो तो व्यक्ति निर्दयी होता है।

Comments