- Advertisement -

महिला आयोग ने महिला Doctor के अत्याचारों से नाबालिग को बचाया

0

- Advertisement -

नई दिल्ली। डॉक्टर को धरती पर भगवान का रूप माना जाता है, वह लोगों की बीमारियों का इलाज कर उन्हें नई जिंदगी देता है। लेकिन दिल्ली के पॉश इलाके मॉडल टाउन में एक महिला डॉक्टर के कुछ ऐसा किया जिसे सुन कर आपके होश उड़ जाएंगे। महिला डॉक्टर ने अपने घर में काम के लिए रखी गई एक नाबालिग लड़की पर बहुत अत्याचार किए और उसे घर बंधक बनाकर रखा था। एक पड़ोसी ने इसकी सूचना महिला आयोग की दी, जिसके बाद महिला आयोग ने पुलिस के साथ मिलकर 14 साल की लड़की को महिला डॉक्टर के घर से मुक्त कराया है। मामले का खुलासा होते ही डॉक्टर को भी गिरफ्तार कर लिया गया है।

महिला आयोग के हेल्पलाइन नंबर 181 पर फोन करके दी सूचना

प्लेसमेंट एजेंसी ने चार महीने पहले झारखंड की रहने वाली एक गरीब परिवार की लड़की को महिला डॉक्टर के घरेलू काम करने के लिए रखवाया था। इस दौरान महिला डॉक्टर ने उसे शारीरिक और मानसिक रूप से प्रताड़ित किया। महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल को लड़की ने बताया कि महिला डॉक्टर गुस्से में उसे मारती थी और उसकी आंखों पर कैंची से वार भी करती थी। उसे दो दिन में सिर्फ एक बार ही खाना दिया जाता था। एक पड़ोसी ने इसकी सूचना महिला आयोग के हेल्पलाइन नंबर 181 पर फोन करके दी थी। पीड़िता लड़की के शरीर पर चोटों के कई निशान हैं और उसे प्रेस से जलाने की भी कोशिश की गई थी। पीड़िता ने बताया कि उसकी मालकिन ने कई बार उसका गला दबाने की भी कोशिश की और उस पर गर्म पानी भी फेंका, साथ ही उसको तनख्वाह भी नहीं दी जाती थी। पुलिस उपायुक्त असलम खान ने बताया कि आरोपी डॉक्टर के खिलाफ किशोर न्याय अधिनियम व बंधुआ मजदूरी अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया है।

- Advertisement -

Leave A Reply