- Advertisement -

जरा सोचिए ! कौन है ज्यादा इंटेलिजेंट महिला या पुरुष …

स्टूडेंट्स की समझ पर उनके जेंडर का पड़ता है खासा असर

0

- Advertisement -

इंटेलिजेंस यानी बुद्धिमत्ता के मामले में एक जैसे एकेडमिक ग्रेड्स होने के बावजूद महिलाएं जहां खुद को वास्तविकता से कम आंकती हैं वहीं, पुरुष खुद को जरूरत से ज्यादा स्मार्ट समझते हैं। एक हालिया स्टडी में इस बात का खुलासा हुआ है कि अपनी खुद की इंटेलिजेंस को लेकर स्टूडेंट्स की समझ पर उनके जेंडर का खासा असर पड़ता है, खासतौर पर तब जब वे दूसरों से खुद की तुलना करते हैं।

अमेरिका के ऐरिजोना स्टेट यूनिवर्सिटी की इस रिसर्च के दौरान 100 छात्रों से बात की गई। उनसे पूछा गया कि उनकी क्लासेज कैसी रहीं और इस दौरान एक ट्रेंड नोटिस किया गया। ‘बार-बार पूछने के बाद भी ज्यादातर छात्राओं ने कहा कि हमें अक्सर इस बात का डर लगा रहता है कि दूसरे स्टूडेंट्स समझेंगे कि हम कितने मूर्ख हैं जबकि छात्रों ने ऐसा कुछ नहीं कहा। अनुसंधानकर्ताओं ने बायोलॉजी कोर्स में एडमिशन लेने वाले 250 स्टूडेंट्स से उनकी बुद्धिमत्ता के बारे में बातचीत की। स्टूडेंट्स से कहा गया था कि वे अपनी बुद्धिमत्ता, की क्लास में मौजूद दूसरे स्टूडेंट्स के साथ तुलना करें।

अनुसंधानकर्ताओं ने पाया कि ज्यादातर वीमेन स्टूडेंट्स ने पुरुषों की तुलना में अपनी बुद्धिमत्ता को वास्तविकता से कम आंका। जब 3.3 GPA वाले फीमेल और मेल स्टूडेंट्स की तुलना की गई तो मेल स्टूडेंट ने खुद को अपने क्लास के 66 प्रतिशत स्टूडेंट्स से ज्यादा स्मार्ट बताया जबकि फीमेल स्टूडेंट का कहना था कि वे अपनी क्लास की सिर्फ 54 प्रतिशत स्टूडेंट्स से ज्यादा स्मार्ट हैं। इससे पहले हुई रिसर्च में अंडरग्रैज्युएट बायोलॉजी क्लास के मेल स्टूडेंट्स का मानना था कि कोर्स मटीरियल के मामले में पुरुष, महिलाओं से ज्यादा स्मार्ट होते हैं। तो अब जरूरी है कि महिलाएं अपने अंदर के कमतरी के एहसास को बाहर कर दें और अपनी वास्तविक बौद्धिक क्षमता का आंकलन करें।

- Advertisement -

%d bloggers like this: