- Advertisement -

सुक्खू का विरोधः कांगड़ा को बांटना उचित नहीं

0

- Advertisement -

शिमला। प्रदेश कांग्रेस में सचिवों की रार अभी ठंडी पड़ ही रही थी कि परिवहन मंत्री जीएस बाली ने संगठनात्मक जिलों का मुद्दा छेड़ दिया। बाली ने स्पष्ट शब्दों में कांगड़ा को संगठनात्मक आधार पर बांटने को सरासर गलत करार दिया है। उन्होंने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सुखविंदर सिंह सुक्खू द्वारा लिए गए इस निर्णय का विरोध करते हुए सीएम वीरभद्र सिंह के स्टैंड को सही करार दिया है। वीरभद्र सिंह भी कांगड़ा को संगठनात्मक तौर पर बांटने का विरोध जताते रहे हैं। बाली ने शिमला में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि कांगडा को कागजों में अलग-अलग करना सही नहीं है। याद रहे कि सुक्खू ने कांगड़ा को संगठनात्मक तौर पर चार हिस्सों में बांट रखा है, जिसमें कांगड़ा, नूरपुर, पालमपुर व देहरा जिला बनाए गए हैं। सुक्खू का इसमें तर्क शुरू से यही रहा है कि संगठन के कार्य में कुशलता आएगी। बाली इस निर्णय का पहले भी विरोध कर चुके हैं। इसके साथ ही बाली ने एक और बात पर सीएम वीरभद्र सिंह की तरफदारी यह कहकर कर दी कि उनका ना केवल सरकार में बल्कि पार्टी में भी कद बहुत बड़ा है। उन्होंने कहा कि वीरभद्र सिंह जो कहते हैं, उसे सभी को सुनना चाहिए।

gs-bali

  • चुनाव के समय सभी एक जुट होकर काम करेंगे
  • सीएम वीरभद्र सिंह के साथ बेहतर संबंध : बाली
  • संगठन में अध्यक्ष पद पर किसी की तैनाती होना और हटाना एक प्रकिया

सत्ता और संगठन में उपजे विवाद को लेकर पूछे गए एक सवाल के जवाब में बाली ने कहा कि आपसी संवाद की कमी से ऐसे मामले सामने आते हैं लेकिन चुनाव के समय सभी एक जुट होकर काम करेंगे। बाली ने यह भी कहा कि उनके सीएम वीरभद्र सिंह के साथ बेहतर संबंध हैं। उन्होंने कहा कि संगठन में अध्यक्ष पद पर किसी की तैनाती होना और हटाना एक प्रकिया है। यह काम पार्टी हाईकमान ही करती है।

टांका लगाने वालों पर एफआईआर

जीएस बाली ने कहा कि बसों में टांका लगाने वाले परिचालकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज होगी। उन्होंने बताया कि बीते दिनों एक परिचालक को चार हजार रुपए का टांका लगाते हुए पकड़ा गया था, उसके खिलाफ निगम ने एफआईआर दर्ज की है तथा कानून के अनुसार कार्रवाई की जा रही है। बाली ने कहा कि प्रदेश में बीओटी आधार पर बस अड्डों को बनाना एक चुनौती से कम नहीं है। पहले से चल रहे विवादों के कारण निजी पार्टियां बीओटी आधार पर बस अड्डों को बनाने के लिए नहीं आ रही हैं।

- Advertisement -

%d bloggers like this: