Advertisements

विधानसभा अध्यक्ष पद पर Dr. Rajiv Bindal की ताजपोशी, सर्वसम्मति से हुआ चयन

- Advertisement -

धर्मशाला। नाहन से विधायक डॉ राजीव बिंदल का सर्वसम्मति से हिमाचल प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष पद के लिए चयन हो गया। डॉ. बिंदल ने विधानसभा अध्यक्ष पद के लिए मंगलवार को नामांकन पत्र दाखिल किया था। उनके मुकाबले विपक्ष ने कोई उम्मीदवार नहीं उतारा है। विधानसभा में अध्यक्ष पद के लिए सुबह यह चयन प्रक्रिया चली।
प्रक्रिया पूरी होने के बाद प्रोटेम स्पीकर रमेश धवाला ने डॉ. राजीव बिंदल के विधानसभा अध्यक्ष निर्वाचित होने की घोषणा की। इसके बाद सीएम जयराम ठाकुर और कांग्रेस विधायक दल के नेता मुकेश अग्निहोत्री ने डॉ. बिंदल को उनकी सीट से साथ लेकर अध्यक्ष के आसन तक पहुंचाया। डॉ. बिंदल को अध्यक्ष आसन पर बिठाने से बाद प्रोटेम स्पीकर इस सीट से उठकर अपनी सीट पर पहुंचे। डॉ. बिंदल के समर्थन में सीएम जयराम ठाकुर ने पहले एक प्रस्ताव पेश किया और उसका समर्थन संसदीय कार्य मंत्री सुरेश भारद्वाज ने किया। इसके बाद दूसरा प्रस्ताव कांग्रेस विधायक दल के नेता मुकेश अग्निहोत्री ने किया, जिसका समर्थन पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह ने किया। इसके बाद तीसरा प्रस्ताव आईपीएच मंत्री महेंद्र सिंह ने पेश किया और खाद्य व नागरिक आपूर्ति मंत्री किशन कपूर इसका समर्थन किया, जबकि चौथा प्रस्ताव स्वास्थ्य मंत्री विपन सिंह परमार ने पेश किया, जिसका सामाजिक न्याय व अधिकारिता मंत्री डॉ. राजीव सहजल ने समर्थन किया। चारों प्रस्तावों में सदन के सदस्य डॉ. राजीव बिंदल को अध्यक्ष बनाने का जिक्र किया। गौर रहे कि सदन में आज राज्यपाल आचार्य देवव्रत का भी अभिभाषण होगा। दोपहर बाद यह अभिभाषण होगा। कैबिनेट ने अपनी पिछली बैठक में राज्यपाल के अभिभाषण को मंजूरी दी थी। सदन में उनके अभिभाषण के बाद सदन की कार्यवाही समाप्त होगी।

कब कौन रहा विधानसभा अध्यक्ष

जयवंत राम : 24 मार्च, 1952 से 31 अक्तूबर 1956
देशराज महाजन : 4 जनवरी 1963 से 18 मार्च 1967
देशराज महाजन : 20 मार्च 1967 से 19 मार्च 1972
कुलतार चंद राणा : 28 मार्च 1972 से 29 जून 1977
सरवण कुमार : 30 मार्च 1977 से 18 अप्रैल 1979
टीएस नेगी : 8 मई 1979 से 21 जून 1982
टीएस नेगी : 22 जून 1982 से 14 सितंबर 1984
विद्या स्टोक्स : 11 मार्च 1985 से 19 मार्च 1990
राधारमन शास्त्री : 21 मार्च 1990 से 17 अगस्त 1990
टीएस नेगी : 20 अगस्त 1990 से 14 दिसंबर 1993
कौल सिंह ठाकुर : 15 दिसंबर 1993 से 12 मार्च 1998
गुलाब सिंह ठाकुर : 30 मार्च 1998 से 7 मार्च 2003
गंगूराम मुसाफिर : 11 मार्च 2003 से 9 जनवरी 2008
तुलसी राम : 11 जनवरी 2008 से 1 जनवरी 2013
बीबीएल बुटेल : 9 जनवरी 2013 से दिसंबर 2017

यह भी पढ़ें…Jai Ram बोले, राजनीतिक आधार पर बने मामले लेंगे वापस, सरकारी भर्तियों में होगी पारदर्शिता

नाहन से दूसरी बार जीते डॉ. बिंदल 

 नाहन सीट से बीजेपी उम्मीदवार राजीव बिंदल विधानसभा डिलिमिटेशन के बाद सोलन से नाहन आए थे और वह यहां आकर लगातार दो बार चुनाव जीते हैं। बीजेपी के तेज तर्रार नेताओं में शुमार राजीव बिंदल प्रदेश बीजेपी के प्रवक्ता भी हैं। 62 साल के बिंदल पेशे से डॉक्टर हैं। अपनी ग्रेजुएशन के बाद उन्होंने समाज सेवा को अपनाया और तीन साल तक बिहार में उन्होंने एक डॉक्टर के नाते अपनी सेवाएं दीं और वापस सोलन आकर हिमगिरी आश्रम की स्थापना की।
वह 1995 से 2000 तक सोलन नगर परिषद के चेयरमैन भी रहे। 2000 में उन्होंने सोलन से विधानसभा चुनाव जीता व प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के चेयरमैन बने। 2003 व 2008 में उन्होंने फिर चुनाव सोलन से जीता। फिर सोलन डिलिमिटेशन के दौरान अनूसूचित जाति के आरक्षित चुनाव क्षेत्र बना तो बिंदल नाहन चले आए और 2012 में उन्होंने नाहन से चुनाव जीता। उल्लेखनीय है कि इससे पहले 12वीं विधानसभा तक 15 अध्यक्ष रह चुके हैं। सबसे कम कार्यकाल 9वें विधानसभा अध्यक्ष रहे राधारमन शास्त्री का रहा है। शास्त्री 21 मार्च 1990 से 17 अगस्त 1990 तक अध्यक्ष रहे। इसके अलावा सबसे ज्यादा तीन बार टीएस नेगी विधानसभा अध्यक्ष रहे हैं। देशराज महाजन ने भी दो बार विधानसभा अध्यक्ष की भूमिका निभाई है।

Advertisements

- Advertisement -

%d bloggers like this: