EC का फरमान, Posters से हटाओ राजनेताओं की तस्वीर

नई दिल्ली। पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव नजदीक आने के साथ ही चुनाव आयोग ने अपना रवैया और सख्त कर लिया है। आयोग ने सभी चुनावी राज्यों को निर्देश दिया है कि सरकारी विज्ञापनों और होर्डिंग में किसी राजनीतिक व्यक्ति की तस्वीर का उपयोग नहीं किया जाए। पहले से मौजूद तस्वीरों को भी ढक दिया जाए। इसने विवादास्पद बयान के लिए बीजेपी सांसद साक्षी महराज को नोटिस भी जारी किया है, जिसमें बुधवार तक जवाब मांगा गया है। चुनाव आयोग ने पांचों चुनावी राज्य में सरकारों को उनके यहां सभी सरकारी होर्डिंग और विज्ञापनों के संबंध में ये निर्देश तुरंत लागू करने को कहा है। आयोग ने कहा है कि 2004 से ही यह निर्देश लागू है कि किसी राजनीतिक दल या व्यक्ति को इस बात की इजाजत नहीं दी जा सकती कि वह सरकारी खजाने का उपयोग कर अपनी या अपनी पार्टी की छवि को चमकाए। आयोग ने यह भी स्पष्ट कर दिया है कि इस निर्देश का उल्लंघन होने पर साफ तौर पर माना जाएगा कि सरकारी धन का इस्तेमाल संबंधित व्यक्ति या पार्टी के चुनाव प्रचार में किया जा रहा है।

  • बीजेपी सांसद साक्षी महाराज को नोटिसsakshi

हालांकि आयोग ने यह भी कहा है कि ऐसे सरकारी विज्ञापन जिनमें परिवार नियोजन जैसे विषयों पर सामान्य संदेश दिए गए हों या फिर सामाजिक योजना की चर्चा की गई हो, उनमें तस्वीरों का इस्तेमाल किया जा सकता है। उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड, गोवा और मणिपुर में विधानसभा चुनाव की घोषणा हो चुकी है। चार फरवरी से इन राज्यों के लिए विभिन्न चरण में मतदान शुरू हो जाएंगे। साक्षी महाराज को नोटिस केंद्रीय चुनाव आयोग ने भाजपा सांसद साक्षी महराज को नोटिस जारी कर उनके बयान पर 11 जनवरी को 11 बजे तक अपनी सफाई देने को कहा है। इस नोटिस में कहा गया है, अायोग का प्रथम दृष्टया मानना है कि आपने आदर्श चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन किया है। साथ ही ऐसा बयान दे कर जानबूझ कर माननीय सुप्रीम कोर्ट के आदेश का भी उल्लंघन किया है। इसलिए आयोग आपको नोटिस जारी कर रहा है कि आपके खिलाफ क्यों नहीं कार्रवाई की जाए।

Comments