Advertisements

नववर्ष पर मानवता की राह में कुछ अच्छे कदम और बढ़ाएं

- Advertisement -

हर नववर्ष पर हम दोगुने उत्साह के साथ नए वर्ष में प्रवेश करते हैं, पर इस उल्लास के बीच यही समय है जब हम जीवन में कुछ अच्छा करने का, सामाजिक बुराइयों को दूर करने का संकल्प लें और मानवता की राह में कुछ अच्छे कदम और बढ़ाएं। हमारी सबसे पुरानी पर्व परंपराओं में से एक नववर्ष है। बेबिलोनिया के लोग अनुमानत: 4000 वर्ष पूर्व से ही नववर्ष मनाते रहे हैं। नववर्ष के आरम्भ का स्वागत करने की परंपरा आनन्द की अनुभूति से जुड़ी हुई है। विभिन्न विश्व संस्कृतियां इसे अपनी-अपनी कैलेंडर प्रणाली के अनुसार मनाती हैं।

वस्तुत: मानवीय सभ्यता के आरम्भ से ही मनुष्य ऐसे क्षणों की खोज करता रहा है, जहां वह सभी दुख, कष्ट व जीवन के तनाव को भूल सके। इसी के अनुरूप उत्सवों और त्योहारों के सिलसिले चलते रहते हैं। नववर्ष आज पूरे विश्व में एक समृद्धशाली पर्व का रूप अख्तियार कर चुका है। इस पर्व पर पूजा-अर्चना के अलावा उल्लास और उमंग से भरकर परिजनों व मित्रों से मुलाकात कर उन्हें बधाई देने की परम्परा दुनिया भर में है। हालांकि अब हर मौके पर ग्रीटिंग कार्ड भेजने का चलन एक स्वस्थ परंपरा थी पर अब ग्रीटिंग कार्ड का चलन भी धीरे-धीरे खत्म होता जा रहा है। लोग एक दूसरे को फोन पर बधाई दे लेते हैं और यह आसान भी है। यह साल जाते हुए यह याद दिलाता है कि इस बीते साल ने हमें कब आशान्वित किया खुशियां दीं और कब हमें निराशा की गहरी खाई में धकेल दिया। सर्व शक्तिमान ईश्वर से हमारी यही प्रार्थना है कि जब इस नव वर्ष में यह शताब्दी अपने 18 वें वर्ष में प्रवेश कर करेगी, तो यह वर्ष आपके लिए खास बने। नए सुनहरे भविष्य की शुभ कामनाएं ।

Advertisements

- Advertisement -

%d bloggers like this: