आदेशः अप्रशिक्षित शिक्षकों के लिए अब Diploma in Elementary Education जरूरी

0

शिमला। हिमाचल प्रदेश में सरकारी, निजी और सरकारी अनुदान से चलने वाले स्कूलों में तैनात अप्रशिक्षित शिक्षकों को डिप्लोमा इन एलीमेंटरी एजुकेश करना ही होगा। इसके लिए सभी अपात्र शिक्षकों को ऑनलाइन डीएलएड कोर्स उपलब्ध करवाया गया है। इसके लिए शिक्षकों ने खुद को इसमें पंजीकृत भी करवाया है। यानी इन शिक्षकों को अब ऑनलाइन पढ़ाई करनी होगी और असाइनमेंट भी ऑनलाइन मिलेगा।

आरटीई के तहत सभी प्राइमरी स्कूलों में पढ़ा रहे शिक्षकों का दो वर्षीय जेबीटी कोर्स किया जाना जरूरी है। इसके साथ-साथ डिप्लोमा इन एलीमेंटरी एजुकेशन करने वाले भी इन कक्षाओं को पढ़ाने को अधिकृत हैं, लेकिन कई स्कूलों में टीजीटी ही इन्हें पढ़ा रहे हैं और इसे देखते हुए केंद्र सरकार ने सभी राज्यों को सख्त हिदायत दी है कि प्राइमरी स्कूलों में पढ़ाने वाले शिक्षकों के पास डीएलएड करना जरूरी है। इसके बाद केंद्र के मानव संसाधन मंत्रालय के निर्देश पर ऐसे सभी अपात्र शिक्षकों को ऑनलाइन यह कोर्स करने को कहा गया है। इसके लिए कई शिक्षकों ने ऑनलाइन पंजीकरण भी किया है।

प्रारंभिक शिक्षा निदेशालय ने भेजा पत्र

प्रारंभिक शिक्षा निदेशालय में तैनात समन्वयक अधिकारी (प्रशिक्षण) ममता वैद्य ने इस संबंध में सभी उपनिदेशकों (उच्चतर और प्रारंभिक) को पत्र भेजकर कहा है कि जिन अपात्र शिक्षकों ने डीएलएड के लिए ऑनलाइन पंजीकरण करवाया है वे 15 नवंबर तक ऑनलाइन अपनी उपस्थिति दर्ज करवाएं। इसके साथ-साथ उन्हें यह भी जानकारी दी गई है कि कैसे वे ऑनलाइन शिक्षा ले सकते हैं। विभाग ने इन सभी से कहा है कि वे अपनी अध्ययन सामग्री और आडियो-वीडियो लेक्चर उन्हें बताए गए लिंक से ले सकते हैं। इसके साथ-साथ वे अपने मोबाइल पर ऐप डाउनलोड़ कर भी इसकी सामग्री हासिल कर सकते हैं।

ममता वैद्य ने सभी उपनिदेशकों से कहा कि उनके अधीन सभी सरकारी, अनुदान प्राप्त और निजी स्कूलों में कार्यरत अप्रिशिक्षित अध्यापक, जो ऑनलाइन डीएलएड कोर्स के लिए पंजीकृत हुए हैं, वे उन्हें दिए गए ऑनलाइन लिंक पर 15 नवंबर तक अपनी उपस्थिति दर्ज करवाएं। इसके साथ-साथ वे वहीं से अपनी अध्ययन सामग्री और असाइनमेंट भी ले सकते हैं।

You might also like More from author

Leave A Reply