Advertisements

मौसमी फल : स्वाद नहीं सेहत की देखभाल भी जरूरी

fruits are good for health in Summer

- Advertisement -

हर मौसम में फलों की किस्म, रंगत और स्वाद बदल जाता है। गर्मियों के फल इस मामले में ज्यादा मायने रखते हैं। धूप की वजह से इन पके फलों की मिठास गहरी होती है। इसी मौसम में आम की ढेरों किस्में होती हैं और उनका स्वाद भी अलग होता है। सच कहें तो यह आमों का ही मौसम होता है। हां, खरबूजा-तरबूज जरूर इसका साथ निभाते हैं तो फल सिर्फ खाने में स्वाद ही नहीं देते आपकी सेहत की देखभाल भी रखते हैं।

Fruits Summer health news

  • बेल का शर्बत आंखों की रोशनी में कमी, पेट की समस्याओं से निजात पाने के लिये उत्तम है। गर्मियों में बेल का फल मानो एक वरदान है जिसके सेवन से धूप की तपिश से शरीर को बचाया जा सकता है। बेल का शर्बत बुखार के नियंत्रण के लिए कारगर माना जाता है। इस मौसम में पके पपीते के सेवन से शरीर में ताजगी और स्फूर्ति बनी रहती है। तेज गर्मी में भी यह शरीर के तापमान को नियंत्रित किए रहता है।

Fruits Summer health news

  • सब्जी और फल के तौर पर खाया जाने वाला कटहल कई तरह के औषधीय गुणों से भरपूर है। कटहल के फलों में कई महत्वपूर्ण प्रोटीन्स, कार्बोहाईड्रेट्स के अलावा विटामिन्स भी पाए जाते हैं। कुछ हर्बल जानकार तो कटहल के पके फलों को दुबले और कमजोर व्यक्तियों को खाने की सलाह देते हैं, उनके अनुसार यह वजन बढ़ाने में बेहद सहायक होता है।
  • कमरख स्वाद में काफी खट्टे होते है हालांकि ज्यादा पक जाने पर इनमें थोड़ी मिठास भी आ जाती है। इसका पका हुआ फल शक्तिवर्धक और ताजगी देने वाला होता है। यह बुखार में भी लाभकारी होता है।

  • अक्सर ग्रामीणजन इसके पके फलों का रस तैयार कर दोपहर में पीते हैं, माना जाता है कि शरीर की आंतरिक तासीर को यह ठंडा बनाए रखता है।
  • संतरे के रस में विटामिन सी, विटामिन बी कॉम्लेक्स, विटामिन ए, कई खनिज तत्व और पौष्टिक पदार्थ पाए जाते हैं।
  • गर्मी की वजह से यदि सिरदर्द हो रहा हो तो तरबूज का शर्बत पिया जाए तो दर्द में आराम मिलता है। लगभग 100 मिली तरबूज के रस में 2 ग्राम काली मिर्च के चूर्ण को मिलाकर दिन में 2-3 बार सेवन करने से शरीर की सूजन दूर हो जाती है।
  • 1 कप तरबूज के रस में यदि 1 चुटकी सेंधानमक डालकर सेवन किया जाए तो हाई ब्लड प्रेशर में काफी फायदा होता है।
Advertisements

- Advertisement -

%d bloggers like this: