Advertisements

वन मंत्री बोले, Police के साथ मिलकर होगी Cedar wood oil के मामले की जांच

राजधानी में मिले करोड़ों के सिडार वुड आयल के मामले पर तल्ख किए तेवर

- Advertisement -

शिमला। राजधानी में चौपाल के जंगलों में करोड़ों रुपये के पकड़े गए सिडार वुड आयल के मामले पर वन मंत्री गोविंद ठाकुर ने कड़ा रुख अपनाया है। ठाकुर ने इस मामले की जांच पुलिस के साथ मिलकर करने की बात कही है। वन मंत्री ने स्पष्ट कहा है कि वन माफिया से सरकार सख्ती से निपटेगी और इनका सफाया किया जाएगा। साथ ही अफसरों और कर्मियों की मिलीभगत का पता लगाते हुए दोषियों से सख्ती से निपटेगी।

चौपाल में सिडार वुड आयल का खेल सालों से चल रहा है और पिछले दिनों इस मामले के सामने आने के बाद वन विभाग और पुलिस ने इसके खिलाफ अभियान छेड़ा है। विभाग की सख्ती के बाद चौपाल के जंगलों से सिडार वुड आयल की भट्ठियां और 20 हजार लीटर से अधिक तेल की बरामदगी हो चुकी है, लेकिन इस खेल के पीछे कौन है, उस बड़ी मछली तक हाथ नहीं पहुंचे हैं।

चौपाल में पांच दिन से चले सघन तलाशी अभियान में वन विभाग ने सिडार वुड आयल निकालने की 15 से अधिक भट्ठियां पकड़ी हैं और 20 हजार लीटर से अधिक सिडार वुड आयल बरामद किया है। सिडार वुड आयल का यह खेल करोड़ों रुपये का है और इसमें वन विभाग के अधिकारियों की मिलीभगत स्पष्ट लगती है। उधर, वन मंत्री गोविंद ठाकुर ने कहा कि राज्य की जयराम ठाकुर सरकार की हर माफिया के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति है और वन माफिया से सरकार सख्ती से निपटेगी। उन्होंने कहा कि 15 से अधिक अवैध भट्ठियांको विभाग की जांच टीमों ने पकड़ा है।

कमेटी करेगी जांच

इस मामले को वन विभाग की टीम ने दो डीएफओ, शिमला और चौपाल की कमेटी बनाई है। यह कमेटी वहां तलाशी अभियान में जुटी है और वह कल तक रिपोर्ट दे सकती है। बताते हैं कि इनकी रिपोर्ट में वन विभाग के निचले स्तर के कर्मचारी लपेटे में आ सकते हैं, क्योंकि उन्होंने इसकी कोई सूचना ऊपर तक नहीं दी। अभी डीएफओ शिमला और चौपाल मिलकर तलाशी ही कर रहे हैं। तलाशी अभियान पूरा होने के बाद ही यह अपनी रिपोर्ट देंगे।

चिंतित Dhumal बोले, विस चुनावों में नशे की गर्त में धकेला Youth, अभिभावक भुगत रहे परिणाम

Advertisements

- Advertisement -

%d bloggers like this: