तैश में BALI… CM के कमरे से निकले …बोले, अब कांगड़ा में देखेंगे

लोकिंदर बेक्टा/ शिमला। दोपहर तक शांत और बीते वर्ष की कड़वाहट को खत्म करके आगे बढ़ने की बात करने वाले transport minister जीएस बाली शाम होते एक नहीं दो-दो बार तैश खाकर CM के कमरे से बाहर निकलते रहे। यह पूरा घटनाक्रम शाम 6.30 से 7 बजे के बीच हुआ। उस वक्त सीएम के कमरे में प्रदेश स्वास्थ्य मंत्री कौल सिंह ठाकुर, उद्योग मंत्री मुकेश अग्निहोत्री, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सुखविंदर सिंह सुक्खू, हर्ष महाजन और युवा कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष विक्रमादित्य सिंह मौजूद थे।

  • जीएस बाली सीएम के कमरे से पहले भी तैश खाकर बाहर निकले थे, तब उनके साथ सुक्खू थे। बताया जा रहा है कि सुक्खू ने बाली को समझाने की कोशिश भी की, लेकिन बाली आगे बढ़ गए।

अभी वह हाईकोर्ट के समीप पहुंचे ही थे कि जीएस बाली को फिर से बुला लिया गया। इसके बाद जब बाली सीएम के कमरे से निकले तो तैश खाते हुए बोले कि अब जो होगा कांगड़ा में ही होगा। बहरहाल, प्रदेश की कांग्रेस सरकार के चार वर्ष के मौके पर धर्मशाला में हुई रैली के दौरान कैबिनेट मंत्री जीएस बाली को मंच पर आने न देने का मामला थमता नजर नहीं आ रहा।

इसी मुद्दे पर शनिवार परिवहन मंत्री जीएस बाली ने सीएम वीरभद्र सिंह और पार्टी नेताओं से मुलाकात की।

congress-1समझा जाता है कि इस दौरान धर्मशाला रैली में उन्हें मंच पर न आने देने के मामले पर बात हुई। गौर रहे कि इस रैली में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी आए थे और एसपीजी को सौंपी गई लिस्ट से बाली गायब थे। शनिवार शाम को बाली सीएम और अन्य नेताओं से मिलने के बाद कांगड़ा के लिए निकल गए। ऐसे में चर्चा गर्म हो गई है कि बाली की सीएम ऑफिस में ऐसी क्या बात हुई कि बाली तैश में आ गए और गुस्से में सीएम के ऑफिस से निकले और फिर कांगड़ा को रवाना हो गए।

इससे लगता है कि पार्टी के भीतर सब ठीक नहीं है और बाली चाह कर भी धर्मशाला में मिले जख्म को भूल नहीं पा रहे। बता दें कि दोपहर में बाली की पीसीसी चीफ सुखबिंदर सिंह से भी काफी लंबी चर्चा हुई थी। इस मुलाकात के केंद्र में भी धर्मशाला रैली का वो मंच था, जिस पर बाली को चढ़ने से रोका गया था। उधर, बाली के कांगड़ा रवाना होने के बाद सीएम ने उद्योग मंत्री मुकेश अग्निहोत्री को अपने आवास हॉलीलॉज बुलाया और वहां आज के घटनाक्रम पर चर्चा की। 

You might also like More from author

Comments