Gurugram को मिलेगा E-Governance अवार्ड

चंडीगढ़। गुरुग्राम जिला प्रशासन को आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में 9 व 10 जनवरी को आयोजित ई-शासन पर दो दिवसीय 20वें राष्ट्रीय सम्मेलन में जी-ट्रायंगुलेशन परियोजना के लिए राष्ट्रीय ई-शासन पुरस्कार दिया जाएगा। एक सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि इस परियोजना को ई-शासन 2016-17 पर राष्ट्रीय पुरस्कारों के लिए ई-शासन में जीआईएस प्रौद्योगिकी के श्रेणी-6 अभिनव प्रयोग के तहत स्वर्ण पदक से नवाजा गया है। उन्होंने बताया कि देश में किसी भी अन्य राज्य ने प्रयुक्त रिकार्ड प्रबंधन में इतने प्रयोग नहीं किए हैं, जितने हरियाणा ने किए हैं। इस परियोजना के क्रियान्वयन हेतु राजस्व संपदा, मानेसर को एक पॉयलट के रूप में लिया गया था। इसके अंतर्गत 37 गांवों में से 14 गांवों का राजस्व रिकार्ड पूरी तरह से परिष्कृत किया गया। इस परियोजना का उद्देश्य जिलाभर में भूमि जोत का पूर्णतः स्थानिक संदर्भ उपलब्ध करवाना तथा मानेसर में भूमि जोत विवरण को वैध बनाना है।

  • राजस्व रिकार्ड प्रबंधन पर देशभर में अव्वल जिला

उन्होंने बताया कि इससे, 1957 से 2016 के दौरान भू-अभिलेख में हुई गलतियां कम होने की उम्मीद है। उन्होंने बताया कि ट्रायंगुलेशन एक सरल परिकल्पना है, जहां किसी क्षेत्र की पहचान करने के लिए कम से कम तीन बिदु आवश्यक हैं और इस प्रकार असंख्य संदर्भ संख्या सृजित करने के लिए भारतीय सर्वेक्षण विawardभाग के 35 बिंदुओं का इस्तेमाल किया गया है। संयोग से, अब टोडरमल युग के दौरान स्थापित कई रैफ्रेंस प्वाइंट्स समाप्त हो चुके हैं। रैफ्रेंस प्वाइंट्स नेटवर्क को और अधिक परिष्कृत करने के लिए 24 उपग्रहों के एक समूह का उपयोग किया गया है।
इन रैफ्रेंस प्वाइंट्स को इनबिल्ट टोलरेंस के साथ हाई रेजोल्युशन डिजिटल मैप पर सुपरइंपोज किया गया है। इसके अलावाए भू-कर नक्शे या मुसावी को भी सुपरइंपोज किया गया है। उन्होंने बताया कि इन डिजिटल मानचित्रों को बनाने के लिए मानव रहित यान (अनमैंड एरियल व्हीकल) का इस्तेमाल किया गया है। ये मानचित्र आज के दिन भू-अभिलेख प्रबंधन में प्रयुक्त होने वाले देश के सबसे सटीक मानचित्र हैं। इससे जिला प्रशासन भूमि जोत या भूमि पार्सल स्तर पर जियो रैफ्रेंसिंग करने में सक्षम होगा। प्रवक्ता ने बताया कि भविष्य में भूमि और भू-अभिलेख को विभिन्न डाटाबेस से जोड़ा जाएगा और इन डिजिटल मानचित्रों को प्रयोग संपत्ति कराधान प्रबंधन तथा अन्य विभिन्न अनुप्रयोगों के लिए भी किया जाएगा।

You might also like More from author

Comments