Haryana की पहली महिला लोको पॉयलट रजनी की जिंदगी पटरी से उतरी

0

अंबाला। हरियाणा की पहली महिला ट्रेन ड्राइवर (लोको पॉयलट) बीमार सरकारी स्वास्थ्य सेवाओं की भेंट चढ़ गईं । सिविल अस्पताल में डिलीवरी के दौरान रजनी की जिंदगी पटरी से उतर गई। महिला की मौत के बाद बदहाल स्वास्थ्य सेवाओं पर परिजनों के आंसू फूट पड़े और उन्होंने स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज से इस व्यवस्था को ठीक करने की गुहार लगाई हैए ताकि किसी और की ज़िंदगी से खिलवाड़ न हो सके। विज ने इस मामले में अधिकारियों को जांच के आदेश दे दिए हैं। कर्मचारियों की कमी से जूझ रहे हरियाणा के स्वास्थ्य विभाग की यह खामी अंबाला कैंट की चंद्रपुरी में रहने वाली रजनी पर भारी पड़ गई। रेलवे में बतौर लोको पायलट यानी ट्रेन ड्राइवर के रूप में कार्यरत रजनी की अंबाला सिटी के नागरिक अस्पताल में मौत हुई। प्रसव पीड़ा के बाद परिजन 29 दिसम्बर को रजनी को अंबाला सिटी के नागरिक अस्पताल में ले गए जहां उसे डिलीवरी के लिए भर्ती कर लिया गया। रजनी के पति शिव शक्ति का कहना है कि पहली जनवरी की रात को पत्नी रजनी को प्रसव पीड़ा हुई जो उसके लिए असहनीय हो गई।

वहां पर स्टाफ को सिजेरियन ऑपरेशन करने को कहा परन्तु स्टाफ ने नार्मल डिलीवरी करवाने की बात कही। रात को रजनी ने बेटी को जन्म दिया जिसके बाद उसकी तबीयत बिगड़ गई जिससे उसकी मौत हो गई। अस्पताल प्रबंधन ने रजनी की मौत के मामले को गम्भीरता से लेते हुए जांच शुरू कर दी है। अंबाला के सीएमओ डॉक्टर विनोद गुप्ता ने बताया कि डिलीवरी के दौरान महिला को कुछ हेल्थ कंप्लीकेशन्स हो गई थीं जिन्हें गायनेकोलॉजिस्ट और मेडिकल विशेषज्ञ ने संभालने का प्रयास किया परन्तु महिला को बचाया नही जा सका। इस बारे में जांच की जा रही है। 

यह भी पढ़ेंः Petrol डालकर युवक को लगाई आग, Mobile को लेकर हुआ था विवाद

You might also like More from author

Leave A Reply