- Advertisement -

शंकर सिंह ठाकुर बोले, HRTC के MD अशोक तिवारी को Suspend करे सरकार

0

- Advertisement -

शिमला। हिमाचल परिवहन मजदूर संघ के अध्यक्ष शंकर सिंह ठाकुर ने एचआरटीसी के प्रबंध निदेशक अशोक तिवारी पर हमला बोला है। उन्होंने मांग की है कि भ्रष्टाचार के गंभीर आरोपों में घिरे एचआरटीसी के प्रबंध निदेशक अशोक तिवारी को निलंबित कर सरकार उसे बाहर का रास्ता दिखाए। सरकार द्वारा इस मामले में उसे कोई रियायत नहीं दी जानी चाहिए। एचआरटीसी को मनमाने तरीके से पिछले 3 सालों से हांकने वाले अशोक तिवारी ने पूर्व मंत्री के राजनीतिक इशारों पर निगम के दिन-रात कार्य करने वाले 10000 कर्मचारियों से संपर्क और संवाद के सारे रास्ते बंद कर दिए और एचआरटीसी को भय और आतंक के माहौल में धकेल दिया। प्रबंध निदेशक ने सभी सीमाओं को लांघकर भ्रष्टाचार के नए रिकॉर्ड बनाए हैं।

निगम के पैसे से अपने मित्रों को 37450 रुपये की सेब की पेटियां बांटी
शंकर सिंह ठाकुर ने आरोप लगाए कि उन्होंने निगम के पैसे से दिल्ली के अपने मित्रों को 37450 रुपये की सेब की पेटियां बांटी। इतना ही नहीं अपने बीवी बच्चों को घुमाने के लिए दिल्ली में एचआरटीसी की 2 गाड़ियां रखी हैं, जबकि वहां पर एक ट्रैफिक मैनेजर काम करता है। प्रबंध निदेशक ने एचआरटीसी के बस अड्डों को लीज पर देने के लिए टेंडर का कोई रास्ता नहीं अपनाकर केवल सांठगांठ का ही मार्ग अपनाया और निगोशिएसन के द्वारा ही काम चलाया। इतना ही नहीं अभी 15 दिन पहले वेट लीजिंग की अर्नेस्ट मनी को भी सरकार की अनुमति के बिना ही 3000000  तीस लाख रुपए वापस लौटाने के आदेश भी मनमाने तरीके से कर दिए, जोकि नियमों के विपरीत है। 

1 वर्ष पुराने रिकॉर्ड को जलाने के भी लिखित आदेश प्रबंधन निदेशक ने किए हैं। इतना ही नहीं बसों की खरीद फरोख्त में भी पारदर्शिता नहीं बरती गई और निगम की व्हीकल परचेस कमेटी को दरकिनार कर केवल मात्र पूर्व मंत्री के इशारों पर बसों के सौदे किए गए। इन सारे मामलों की गंभीरता को देखते हुए सरकार को चाहिए कि उन्हें निगम के प्रबंध निदेशक पद से तत्काल निलंबित करें और 6 महीने के अंदर जांच पूरी करके उनकी सेवाओं को बर्खास्त किया जाए।  

- Advertisement -

Leave A Reply