Advertisements

प्रधानाचार्य नहीं मान रहे सरकारी फरमान, SMC Teacher को नहीं दी जा रही हाजिरी

Himachal SMC Teacher Allegation Some Principal of Shimla Chamba

- Advertisement -

कांगड़ा। प्रदेश सरकार द्वारा अनुबंध काल एक साल बढ़ाए जाने के बावजूद SMC Teacher को प्रताड़ित किया जा रहा है। शिक्षा सचिव के आदेशों के बाद भी शिमला व चंबा के अधिकतर स्कूलों में SMC Teacher हाजिरी नहीं दी जा रही है। यह आरोप एसएमसी टीचर एसोसिएशन ने लगाए हैं।
एसोसिएशन ने शिक्षा सचिव के आदेशों की अवहेलना करने वाले प्रधानाचार्यों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। साथ ही निर्णय लिया है कि 28 मई को एसोसिएशन का एक प्रतिनिधिमंडल सीएम जयराम ठाकुर व शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज से मिलेगा और प्रधानाचार्यों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की जाएगी। SMC Teacher एसोसिएशन के महासचिव मनोज रोंगटा ने कहा है कि प्रदेश सरकार द्वारा 6 अप्रैल 2018 को जारी की गई अधिसूचना के अनुसार SMC Teacher का अनुबंध कार्यकाल अकादमिक सत्र 2018-19 के लिए बढ़ाया गया। उपरोक्त अधिसूचना शिक्षा सचिव हिमाचल प्रदेश द्वारा निदेशक उच्चतर तथा निदेशक प्रारंभिक को प्रेषित की गई। लेकिन, अनुबंध कार्यकाल बढ़ाने के बावजूद भी जिला शिमला व जिला चंबा के अधिकतर स्कूलों में SMC Teacher को हाजिरी नहीं दी जा रही है तथा आदेशों की संबंधित स्कूल के प्रधानाचार्य अवहेलना कर रहे हैं।

इन स्कूलों में एसएमसी को किया जा रहा प्रताड़ित

एसएमसी टीचर एसोसिएशन के महासचिव मनोज रोंगटा ने कहा कि जिला शिमला के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक गौंसारी, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला खाबल, समोली, भरटू, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला पंद्राणु, कडयुण, दयोठी, दोफदा, मंडोड़घाट, दाड़गी, राजकीय उच्च पाठशाला शढार, क्यारी, बोंडा, करांगला तथा जिला चंबा के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला सुनारा, खणी, भरमौर, सीचू नाला, चनौता व गरोला आदि स्कूलों में सभी SMC Teacher को प्रताड़ित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि उपरोक्त स्कूलों में शिक्षा सचिव हिमाचल प्रदेश के आदेशों की सरेआम धज्जियां उड़ाई जा रही हैं तथा एसएमसी अध्यापकों के साथ भेदभाव किया जा रहा है। 

शिक्षा मंत्री, शिक्षा सचिव, शिक्षा निदेशक प्रारंभिक,  उच्चतर को सौंपा जा चुका है ज्ञापन

संगठन के प्रेस सचिव अनिल राणा ने कहा कि इस विषय को लेकर शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज, शिक्षा सचिव, शिक्षा निदेशक प्रारंभिक तथा शिक्षा निदेशक उच्चतर को ज्ञापन दिया गया है तथा संबंधित स्कूलों के प्रधानाचार्यों पर कार्रवाई करने की मांग की है। उन्होंने कहा कि उपरोक्त स्कूलों में अध्यापक 12 फरवरी 2018 से निरंतर स्कूलों में सेवाएं दे रहे हैं तथा सभी शैक्षणिक कार्यों को संचालित कर रहे हैं। इसके बावजूद भी उपरोक्त स्कूलों के प्रधानाचार्यों द्वारा इस तरह का भेदभाव किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि इस विषय को लेकर 28 मई को SMC Teacher का प्रतिनिधिमंडल सीएम जयराम ठाकुर व शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज से मुलाकात करेगा तथा उपरोक्त प्रधानाचार्य के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

Advertisements

- Advertisement -

%d bloggers like this: