Advertisements

D Company यानी Dhumal राजः कर्मचारियों का हुआ शोषण, प्रताड़ित भी किया

- Advertisement -

शिमला। हिमाचल अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ के अध्यक्ष एसएस जोगटा ने पूर्व सीएम प्रेम कुमार धूमल पर आज यहां तीखे प्रहार किए। उन्होंने आरोप लगाया कि पूर्व सीएम प्रेम कुमार धूमल ने अपने कार्यकाल में हमेशा कर्मचारियों का शोषण किया। उन्होंने अपने चिरपरिचित अंदाज में कहा- डी कंपनी के राज में कर्मचारियों का शोषण हुआ और आज आउटसोर्स कर्मचारियों की जो यह समस्या खड़ी हुई है, यह भी इसी डी कंपनी यानी धूमल राज के कारण हुई है। आउटसोर्स कर्मचारियों के सम्मेलन में जोगटा ने कहा कि पूर्व में जब प्रेम कुमार धूमल सीएम थे तो उन्होंने कर्मचारियों को प्रताड़ित किया। उन्होंने कर्मचारी नेताओं को न केवल ट्रांसफर किया, बल्कि उनके वित्तीय लाभ भी रोके।

  • अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ के अध्यक्ष जोगटा ने धूमल पर कसे तंज
  • बोले, कर्मचारी नेताओं को न केवल ट्रांसफर किया, बल्कि वित्तीय लाभ भी रोके

इसके साथ-साथ राज्य के कर्मचारियों को 2006 में मिले 5वें वेतन आयोग की सिफारिशों को भी उन्होंने किस्तों में दिया और उसमें भी कई तरह से रोड़े अटकाए। इसके विपरीत सीएम वीरभद्र सिंह ने अपने कार्यकाल के दौरान 1986 और1996 में हमेशा एकमुश्त ही उनको एरियर समेत सारे लाभ दिए। कर्मचारी नेता ने सीएम वीरभद्र सिंह को शेरे हिमाचल का खिताब देने की मांग की। उन्होंने कहा कि जब और राज्यों में ऐसा हो सकता है तो यहां भी यह खिताब दिया जाना चाहिए और यह वीरभद्र सिंह को ही मिलना चाहिए। उन्होंने राजधानी शिमला के पुराने भवनों का हिमाचली नाम रखने की वकालत की। जोगटा ने आउटसोर्स कर्मचारियों से कहा कि वे नमक का हक जरूर अदा करें और वीरभद्र सिंह को सातवीं बार राज्य का सीएम बनाने का प्रण लें।

इंटक प्रधान ने अनुराग ठाकुर पर बोला हमला
इस मौके पर राज्य श्रमिक एवं कामगार कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष व इंटक के प्रधान बाबा हरदीप सिंह ने हमीरपुर से सांसद अनुराग ठाकुर पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि वे एचपीसीए, बीसीसीआई और भाजयुमो में अध्यक्ष रहे हैं, लेकिन वे हमेशा नामांकित हुए हैं। इसके विपरीत विक्रमादित्य सिंह दूसरी बार प्रदेश युवा कांग्रेस के अध्यक्ष बने हैं और वे निर्वाचित अध्यक्ष हैं।उन्होंने वीरभद्र सिंह और विक्रमादित्य सिंह की शान में कसीदे पढ़े।

हरदीप सिंह ने कहा कि आउटसोर्स कर्मचारियों की समस्या को समाप्त किया जाए और राज्य में चल रही ठेकेदारी की प्रथा को समाप्त किया जाए। उन्होंने कहा कि टेकेदारी प्रथान को समाप्त करने के लिए सीएम वीरभद्र सिंह ने 25 दिसंबर को धर्मशाला में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के सामने घोषणा कर दी थी और अब इस दिशा में आगे काम हो रहा है।

Advertisements

- Advertisement -

%d bloggers like this: