Advertisements

जाधव की फांसी पर रोक, ICJ में भारत की बड़ी जीत 

- Advertisement -

नई दिल्ली। पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय नौसेना के पूर्व अधिकारी कुलभूषण जाधव की फांसी की सजा पर इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस में आज सुनवाई हुई। जहां कोर्ट ने जाधव की फांसी पर कोर्ट का अंतिम फैसला आने तक रोक लगा दी है। कोर्ट का कहना है कि भारत को वियना संधि के तहत कांउसलर मदद मिलनी चाहिए, जबकि पाक द्वारा किए गए जासूसी के दावे पर कोर्ट ने कहा कि ये आरोप कहीं भी साबित नहीं होता है। कोर्ट ने एकमत होकर कहा कि पाकिस्तान यह आश्वासन दे कि वह कुलभूषण यादव को फांसी नहीं देगा।
  • जासूसी के दावे पर कोर्ट ने कहा,आरोप कहीं भी साबित नहीं  
नीदरलैंड के हेग में स्थित कोर्ट में फैसला सुनाते हुए जज ने कहा कि भारत के द्वारा इस केस में जिन अधिकारी की बात बताई जा रही है, वह सही लग रही है। कोर्ट ने कहा कि भारत की मांग उचित है। वहीं कोर्ट के इस फैसले से पाकिस्तान को बड़ा झटका लगा है। कोर्ट ने कहा कि वियना समझौते के तहत भारत को कुलभूषण जाधव तक पहुंचने का पूरा हक है। पाकिस्तान को ये पहले ही करना चाहिए था, क्योंकि भारत को अपने नागरिक से मिलने का हक है।

सोमवार को कोर्ट ने रखा था फैसला  सुरक्षित 

बता दें भारत कोर्ट ने सोमवार को भारत-पाकिस्तान की दलील सुनने के बाद कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रखा था। ऐसे में भारत की ओर से वरिष्ठ वकील हरीश साल्वे ने दमदार दलील रखते हुए कुलभूषण की फांसी की सजा को तत्काल रद किए जाने की मांग की थी। पाकिस्तान की ओर से कुलभूषण का काउंसलर एक्सेस न देने को भारत ने वियना कन्वेंशन का उल्लंघन बताया था। साथ ही पाकिस्तान की मिलिट्री कोर्ट में कुलभूषण पर चले केस को न्याय का मजाक बताया था। वहीं पाकिस्तान की दलील थी कि ये मामला अंतरराष्ट्रीय कोर्ट का नहीं है, भारत इसे राजनीति का रंगमंच बना रहा है।

यह भी पढ़ें…  कुलभूषण जाधव मामला : ICJ में सुनवाई शुरू, भारत रख रहा पक्ष

Advertisements

- Advertisement -

%d bloggers like this: