टीबी की दवाई बेचते ही Drug inspector को करना होगा सूचित

TB Drugs
1

- Advertisement -

असिस्टेंट ड्रग कंट्रोलर मंडी ने दवा के थोक विक्रेताओं को जारी किए आदेश

मंडी। जिला में दवाइयों के थोक विक्रेताओं को टीबी की दवाएं बेचने के तुरंत बाद इसकी सारी जानकारी संबंधित ड्रग इंस्पेक्टर को देनी होगी ताकि इन दवाइयों के गलत इस्तेमाल पर रोक लगाई जा सके। यह आदेश जारी किया है मंडी जिला के असिस्टेंट ड्रग कंट्रोलर मनीष कपूर ने। बुधवार को असिस्टेंट ड्रग कंट्रोलर मंडी ने जिला के दवा विक्रेताओं के साथ बैठक की और शेडयूल एच-1, खासकर टीबी की 14 प्रकार की दवाइयों के गलत इस्तेमाल की रोकथाम को लेकर चर्चा की।

टीबी की दवाओं के गलत इस्तेमाल से बढ़ रहे हैं एमडीआर के मरीज

मनीष कपूर ने बताया कि इन दवाइयों का गलत इस्तेमाल हो रहा है, जिससे प्रदेश में एमडीआर के मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है। सरकार ने भी इसकी रोकथाम को लेकर निर्देश जारी किए हैं जिसकी जानकरी दवा विक्रेताओं को दी जा रही है। मनीष कपूर ने बताया कि इस प्रकार की दवाइयों को बिना डाक्टर की सलाह के नहीं बेचा जा सकता और यदि कोई बेचता है तो फिर उसके खिलाफ कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। उन्होंने बताया कि जैसे ही मंडी जिला में दवाइयों का थोक विक्रेता शैडयूल एच-1 और टीबी से संबंधित 14 प्रकार की दवाइयों को किसी दुकानदार, क्लीनिक या डाक्टर को बेचता है तो इसकी जानकारी तुरंत संबंधित ड्रग इंस्पेक्टर को देनी होगी, ताकि इसके गलत इस्तेमाल पर रोक लगाई जा सके। बैठक में डब्ल्यूएचओ मार्गदर्शक डा. रविंद्र, डा. नीरज महेंद्रु, डा. जोगिंद्र, डा. रीना और डीआई ललित सहित जिला भर से आए दवा विक्रेता मौजूद रहे।

- Advertisement -

Leave A Reply