अंतरराष्ट्रीय दशहरा उत्सवः आज होगा देव मिलन, 233 देवी-देवता भगवान रघुनाथ के शिविर में भरेंगे हाजिरी

3

- Advertisement -

कुल्लू। अंतरराष्ट्रीय कुल्लू दशहरा उत्सव का आज छठा दिन है और ढालपुर मैदान में 233 देवी-देवताओं के अस्थाई शिविर में बजंतरियों के वाद्य यंत्रों की देवधुनों के साथ पूजा-अर्चना का दौर जारी है। इसके साथ ही भगवान रघुनाथ के अस्थाई शिविर में सुबह सवेरे पूजा की गई।

दशहरा उत्सव के छठे दिन आज महल्ला होगा, जिसमें सभी 233 देवी-देवताओं ने भगवान रघुनाथ के अस्थाई शिविर में हाजिरी भरेंगे और बजंतरियों के बाद्ययंत्रों की देवधूनों पर देवी-देवता एक दूसरे से देवमिलन करेंगे, वहीं शाम के समय नरसिंह भगवान की जलेब में दर्जनों देवी-देवता शामिल होंगे। उधर, लाल चंद प्रार्थी कलाकेंद्र में लोक नृत्य प्रतियोगिता का आज समापन होगा, जिसमें  विजेता को 51 हजार रुपए का इनाम, उपविजेता को 31 हजार का इनाम दिया जाएगा। गौर रहे कि अब से कुछ देर के बाद मुख्य छ़़डीबरदार मेहश्वर सिंह पूजा अर्चना करेंगे, जिसमें करीब डेढ़ घंटे तक भगवान राम, माता सीता, नरसिंह भगवान व शालीग्राम व हनुमान का पूरा हार श्रंग्रार होगा, जिसके बाद उनकी पूजा की जाएगी।

लंका दहन के बाद ढुंगरी के लिए रवाना होगी माता हंडिम्बा

राजपरिवार की कुल देवी माता हडिम्बा की पूजारी शाम लाल शर्मा व विनय भारद्वाज ने कहा कि माता हडिम्बा का दशहरा उत्सव में मुख्य रोल रहता है और राज परिवार की तरफ से दशहरा उत्सव के लिए निमंत्रण भेजा जाता है। आज महल्ले का दिन है राज परिवार की तरफ से छड़ी अस्थाई शिविर में आती है उसके बाद माता हडिम्बा रघुनाथ भगवान के अस्थाई शिविर में हाजिरी लगाती है और कल लंका दहन के लिए सभी देवी-देवताओं की शक्ति रघुनाथ को दी जाती है, जिससे लंका दहन की परपंरा निभाई जाती है। उन्होंने कहा कि लंका दहन के बाद माता अपने देवालय मनाली ढुंगरी की तरफ रवाना हो जाती है।

- Advertisement -

Leave A Reply

%d bloggers like this: