ठंड प्रचंडः शिमला में झमाझम बारिश, पहाड़ों पर गिरे फाहे

0

शिमला। राजधानी में आखिर बारिश हो ही गई। आधी रात के बाद शिमला समेत कुछ ऊपरी इलाकों में बारिश की बौछार हुई है। ऊंची चोटियों में बर्फबारी भी हुई है। राज्य में पश्चिमी विक्षोभ की सक्रियता का यह असर था कि शिमला समेत कई ऊपरी इलाकों में बारिश हुई है और ऊंची चोटियों में बर्फबारी दर्ज की गई है। ऊंची चोटियों पर बर्फबारी और कुछ निचले इलाकों में बारिश होने से राजधानी में ठंड काफी बढ़ गई है। बुधवार आधी रात तो यहां एकदम से घने बादल आए और फिर झमाझम बारिश शुरू हो गई। बारिश सुबह तक रुक रुक कर होती रही और फिर थम गई, लेकिन आसमान में बादलों का डेरा अभी भी बना हुआ है। बारिश से किसानों को कुछ राहत जरूर मिली है, लेकिन बारिश सभी इलाकों में नहीं हुई है। ऐसे में किसान और बागवान अभी भी अच्छी बारिश का बारिश का इंतजार कर रहे हैं।

उधर, शिमला और साथ लगते पर्यटन स्थल कुफरी, मशोबरा, छराबड़ा, ठियोग, नारकंडा, कुमारसेन आदि स्थानों में बारिश होने से यहां मौसम में ठंडक बढ़ गई है। हालांकि बारिश हल्की हुई है, लेकिन इससे ठंड बढ़ी है। हालांकि स्थानीय लोग बर्फ की उम्मीद में थे, लेकिन बर्फबारी न होने से मायूस हुए हैं। वहीं, पर्यटन स्थलों के कारोबारी भी बर्फ की आस में है, बर्फबारी होने से उनका कारोबार भी चमकेगा, क्योंकि बर्फबारी होने से सैलानी इसका लुत्फ उठाने आएंगे और इससे पर्यटन कारोबार से जुड़े लोगों के भी दिन फिरेंगे।

जिला कुल्लू के और निरमंड को जोड़ने वाले हाईवे 305 के जलोड़ी दर्रे पर बर्फबारी शुरू हो गई है। सुबह करीब साढ़े आठ बजे के बाद से बर्फबारी के चलते दर्रे से आना-जाना जोखिम भरा हो गया है, ऐसे में ज़िला प्रशासन ने लोगों को एहतियात बरतने की सलाह दी है। वहीं मौसम विभाग के अनुसार आगामी दिनों में प्रदेश में बर्फबारी होने की आसार है। बंजार व सराज घाटी की ऊंची पहाड़ियों में हुई हल्की बर्फबारी से किसानों और बागवानों के चेहरों पर रौनक लौट आयी है। बारिश बर्फबारी से घाटी में शीत लहर चल रही है कुल्लू घाटी में मौसम खराब आसमान में घने काले बादल छाए हुए हैं

You might also like More from author

Leave A Reply