CM Virbhadra के परिवार से संबंध रखने वाली ज्योति सेन ने थामा BJP का दामन

0

शिमला। सीएम वीरभद्र सिंह की पत्नी प्रतिभा सिंह की भाभी ज्योति सेनने आखिरकार बीजेपी का दामन थाम लिया। आज बीजेपी मुख्यालय में आयोजित समारोह में ज्योति सेन ने बीजेपी की सदस्यता ली और पार्टी की सदस्य बनी। ज्योति सेन कसुम्पटी विधानसभा हलके से ताल्लुक रखती हैं और पिछली बार निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में चुनाव में उतरी थी, लेकिन वह तीसरे स्थान पर रहीं थी। विधानसभा चुनाव से ऐन पहले आज ज्योति सेन ने प्रदेश बीजेपी प्रभारी मंगल पांडे की मौजूदगी में पार्टी ज्वाइन की। वे कई अन्य कार्यकर्ताओं के साथ बीजेपी में शामिल हुई।

  • बीजेपी मुख्यालय में हुए समारोह में बीजेपी के कई अन्य नेता भी मौजूद थे। इनमें प्रवीण शर्मा और चंद्र मोहन ठाकुर और पवन राणा भी मौजूद थे। इस दौरान ज्योति सेन के देवर और कसुंपटी से टिकट के प्रबल दावेदार वीर विक्रम सेन के साथ-साथ सांसद वीरेंद्र कश्यप भी मौजूद थे।

बीजेपी में शामिल होने वालों में प्रतिभा सिंह की भाभी ज्योति सेन, भाई वीर विक्रम सेन, भाई पृथ्वी विक्रम सेन के अलावा नाहर सिंह चौधरी, अध्यक्ष आढ़ती संघ सब्जी मंडी ढली, मदन लाल वर्मा अध्यक्ष ट्रक ऑपरेटर यूनियन ढली, राम लोक पल्लेदार यूनियन सब्ज़ी मंडी, सेवक राम वर्मा अध्यक्ष सब्ज़ी मंडी, कर्मचारी संघ ढली, शिव लाल शर्मा रिटायर्ड एडिशनल एसई बिजली बोर्ड, विकास शर्मा, मनीष चौधरी, सुशील कुमार, आरके राठौड़, कैलाश शर्मा, रामलाल ठाकुर, मदन लाल, राजेश कुमार सूद, राज नारायण वर्मा, सुरेश कुमार भागड़ा, सुशील सूद, नारायण सिंह, बालकृष्ण, श्यामलाल, मनोज कुमार, संतोष कुमार, प्यार चंद, अमन सूद, पंकज सुखचैन के साथ आरती संघ ढली और ट्रक ऑपरेटर यूनियन ढली के सदस्य शामिल हैं।

हिमाचल में परिवर्तन की लहरः पांडे

इस मौके पर बीजेपी प्रभारी मंगल पांडे ने कहा कि बीजेपी की केंद्र सरकार की सकारात्मक नीतियों को देखते हुए बीजेपी बढ़-चढ़कर जनता जुड़ रही है। उन्होंने कहा कि बीजेपी एक परिवार जैसी पार्टी है, जिसमें समस्त कार्यकर्ताओं को प्रेम एवं आदर की भावना से देखा जाता है। उन्होंने कहा कि इतनी बड़ी संख्या में लोगों ने आज सदस्यता ग्रहण की है। इससे यह निश्चित होता है कि हिमाचल में परिवर्तन की लहर चल रही है और इस लहर और सुनामी बनने में समय नहीं लगेगा। पांडे ने कहा कि इस बार हिमाचल में बीजेपी की 50 से अधिक सीटें आनी तय है।

You might also like More from author

Leave A Reply