Advertisements

मासूम को चिड़िया का अंडा तोड़ने की ऐसी सजा, जानकर रोंगटे खड़े हो जाएंगे

खाप का फरमान : 11 दिन के लिए घर से बेदखल, न कोई बात करेगा, न खाना खिलाएगा

- Advertisement -

बूंदी।राजस्थान के बूंदी जिले में पांच साल की एक मासूम को टिटहरी चिड़िया का अंडा तोड़ने की ऐसी सजा मिली जो किसी ने सोची न होगी। हरिपुरा गांव की खाप पंचायत ने तुगलकी फरमान सुनाते हुए मासूम को 11 दिन तक घर से बेदखल कर दिया। अब वह घर के बाहर ही एक पलंग पर रहने को मजबूर है जिसे अब न कोई बात कर सकता है न कोई पास से खाना दे सकता है। अगर किसी को खाना भी देना होगा तो वह दूर से फेंक कर खाना देगा।

इस तुगलकी फरमान के बाद से बच्ची का परिवार डरा हुआ हुआ था। कोई कुछ बोल नहीं सकता था क्योंकि अगर बोला तो वह उनकी बेटी को सज़ा को और बढ़ा देते। यह खबर की सूचना जिले में आग की तरह फैल गई। हिण्डोली पुलिस और जिला प्रशासन के आलाधिकारी मौके पर पहुंचे और घटना की जानकारी ली, लेकिन पुलिस देख पंच पटेल मौके से फरार हो चुके थे उन्हें केवल परिवार और पड़ोसी ही मिले।

जानकारी के अनुसार, छात्रा हरिपुरा स्कूल में पढ़ती है। स्कूल में उसने एक दिन टिटहरी के अंडे दिखे तो उसे हाथ लगाया। इसी दौरान एक अंडा टूट गया।यह बात इतनी फैली कि खाप पंचायत के पंच पटेलों तक चली गई। इसे पंचायत ने गांव के भविष्य के लिए अशुभ बताया और बच्ची के परिवार वालों को तलब किया। पंच पटेलों ने अपना फैसला सुनाते हुए उस मासूम को समाज से 11 दिन तक बेदखल कर दिया। फिलहाल जिला कलेक्टर महेश शर्मा ने अधिकारियों को भेज कर मामले की जांच करने की बात कही है।

Advertisements

- Advertisement -

%d bloggers like this: