- Advertisement -

धर्मशाला अस्पताल में खुला नेत्रदान केंद्र, पहले दिन 9 ने सौंपे शपथ पत्र 

परमार व कपूर ने धर्मशाला में किया नेत्रदान केंद्र का उद्घाटन  

0

- Advertisement -

धर्मशाला। खाद्य आपूर्ति मंत्री किशन कपूर और स्वास्थ्य मंत्री विपिन परमार ने शुक्रवार को क्षेत्रीय अस्पताल धर्मशाला में नेत्रदान केंद्र का उद्घाटन करते हुए लोगों से स्वेच्छा से नेत्रदान करने की अपील की। दोनों मंत्रियों ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि अधिक से अधिक लोग केंद्र में नेत्रदान के लिए आवेदन करें, ताकि वे लोग भी संसार को देख सकें जो नेत्र विकार के कारण नहीं देख सकते हैं।
इस अवसर पर स्वास्थ्य मंत्री विपिन परमार ने मीडिया से बातचीत में कहा कि राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत प्रदेश के हर जिले में नेत्र दान केंद्र खोले जाएंगे। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार स्वास्थ्य संस्थानों में पर्याप्त स्टॉफ की तैनाती तय कर रही है। डॉक्टरों के 300 पद भरे गए हैं, इसके अलावा 200 और पद भरने की प्रक्रिया चल रही है।  इसके अतिरिक्त नर्सों के 800 पद भरे जा रहे हैं, जिनमें 50 प्रतिशत पदोन्नति से एवं बाकि स्टाफ चयन बोर्ड के माध्यम से भरे जा रहे हैं।
खाद्य आपूर्ति मंत्री किशन कपूर ने कहा कि प्रदेश सरकार के लिए गरीब आदमी भगवान तुल्य है। उनका कल्याण हमारी प्राथमिकता है। उन्होंने जोर देते हुए कहा कि सरकार ने लोकहित को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए अनेक नई योजनाएं आरंभ की हैं, ताकि लोगों के जीवन स्तर में व्यापक सुधार हो।
केंद्र सरकार से भी इसमें भरपूर सहयोग मिल रहा है। उन्होंने धर्मशाला अस्पताल में नेत्रदान केंद्र खोलने एवं स्वास्थ्य सेवाओं को सुदृढ़ करने के प्रभावी प्रयासों के लिए सीएम जयराम ठाकुर और स्वास्थ्य मंत्री विपिन परमार का आभार जताया। उन्होंने कहा कि धर्मशाला क्षेत्र में स्वास्थ्य सहित अन्य सभी आवश्यक नागरिक सेवाओं की व्यवस्था को मजबूत बनाने पर विशेष बल दिया जा रहा है।

स्वास्थ्य मंत्री ने नेत्रदान की शपथ लेने वालों को किया सम्मानित

स्वास्थ्य मंत्री ने इस मौके नेत्रदान की शपथ लेने वाली भी विभूतियों की प्ररेणादायक पहल के लिए सराहना की और उन्हें सम्मानित किया। उल्लेखनीय है कि नेत्रदान केंद्र के खुलते ही अभी तक 9 लोगों नेत्रदान के लिए शपथ पत्र सौंपे हैं। इनमें कांगड़ा के जोगिंद्र राणा, धर्मशाला के नवनीत शर्मा, रूपरानी एवं अनूप लता गुरूंग, चड़ी के प्रकाश सहदेव, रजनेश शर्मा एवं रमा शर्मा, निचली बड़ोल के विधिचंद और कांगड़ा की शीला राणा शामिल हैं।

- Advertisement -

%d bloggers like this: