Notebandi के खिलाफ सड़कों पर उतरेंगे मजदूर संगठन

शिमला। नोटबंदी के केंद्र सरकार के फैसले के विरोध में माकपा का मजदूर संगठन सीटू सड़कों पर उतरेगा। सीटू का यह प्रदर्शन 3 जनवरी को होगा। प्रदर्शन के दौरान केंद्र सरकार के नोटबंदी के फैसले से लोगों को हो रही परेशानी पर बात रखी जाएगी। सीटू का प्रदर्शन राष्ट्रीय स्तर पर होगा। इसके तहत राज्य में भी प्रदर्शन होगा।

  • सीटू 3 जनवरी को करेगी प्रदर्शन
  • केंद्र के फैसले को बताया किसान, जनता विरोधी

protest-3सीटू ने केंद्र सरकार के नोटबंदी के फैसले को मजदूर, किसान और आम जनता विरोधी करार दिया है। उसने ऐलान किया है कि केंद्र सरकार के निर्णय के खिलाफ देशव्यापी आंदोलन किया जाएगा। सीटू के राष्ट्रीय सचिव डॉ. कश्मीर ठाकुर ने आरोप लगाया कि नोटबंदी के कारण उद्योगों का कार्य प्रभावित हुआ है। इस कारण देशभर में लाखों मजदूरों की छंटनी की जा चुकी है। यही नहीं, लाखों मजदूर बेरोजगार हो गए हैं।

 उद्योगों के माल की बिक्री आधी हो गई है। इस तरह नोटबंदी के कारण मजदूरों की स्थिति दयनीय हो गई है। डॉ. कश्मीर ठाकुर ने कहा कि नोटबंदी के कारण देश के अर्थतंत्र में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले किसानों की स्थिति बहुत खराब हो गई है। उन्हें फसल बीजने तक के लिए पैसे उपलब्ध नहीं हो पा रहे हैं। इसके साथ साथ उन्हें सब्जियों के उचित दाम भी नहीं मिल रहे। इस कारण किसानों को सब्जियां सड़कों पर फेंकनी पड़ी हैं और इसमें अभी तक कोई सुधार नहीं हो रहा है। उन्होंने कहा कि इस निर्णय के कारण खुदरा व्यापार बुरी तरह प्रभावित हुआ है और इसमें 50 फीसदी तक गिरावट आई है। उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार ने कालेधन के कुबेरों पर कार्रवाई करने के बजाय आम जनता को परेशान करने का ही कार्य किया है और इसके विरोध में सीटू मंगलवार को प्रदर्शन होगा।

You might also like More from author

Comments