क्या आप जानते हैं ….कहां है माचू पिच्चू

0

आज के दौर में अपनी खूबसूरती और ऐतिहासिक प्रमाणों के साथ माचू पिच्चू उतना ही लोकप्रिय है, जितना कि भारत में ताजमहल। दक्षिण अमेरिकी देश पेरू में स्थित माचू पिच्चू एक कोलंबस-पूर्व युग, इंका सभ्यता से संबंधित ऐतिहासिक स्थल है। यह समुद्र तल से 2,430 मीटर की ऊंचाई पर उरुबाम्बा घाटी के ऊपर एक पहाड़ पर स्थित है। इसी घाटी से होकर उरुबाम्बा नदी बहती है। यह कुज़्को से 80 किलोमीटर (50 मील) उत्तर पश्चिम में स्थित है। इसे इंकाओं का खोया शहर भी कहा जाता है।

माचू पिच्चू इंका साम्राज्य के सबसे परिचित प्रतीकों में से एक है। यही नहीं, विश्व के सात नए आश्चर्यों में माचू पिच्चू भी एक है। 1430 ई. के आसपास इंकाओं ने इसका निर्माण अपने शासकों के आधिकारिक स्थल के रूप में शुरू किया था, लेकिन इसके लगभग सौ साल बाद, जब इंकाओं पर स्पेनियों ने विजय प्राप्त कर ली तो इसे यूं ही छोड़ दिया गया। हालांकि स्थानीय लोग इसे शुरू से जानते थे पर सारे विश्व को इससे परिचित कराने का श्रेय हीरम बिंघम को जाता है, जो एक अमेरिकी इतिहासकार थे और उन्होंने इसकी खोज 1911 में की थी, तब से माचू पिच्चू एक महत्वपूर्ण पर्यटन आकर्षण बन गया है।

माचू पिच्चू को 1981 में पेरू का एक ऐतिहासिक देवालय घोषित किया गया और 1983 में इसे यूनेस्को द्वारा विश्व धरोहर स्थल का दर्जा दिया गया। इसे स्पेनियों ने इंकाओं पर विजय प्राप्त करने के बाद भी नहीं लूटा था, इसलिए इस स्थल का एक सांस्कृतिक स्थल के रूप में विशेष महत्व है और इसे एक पवित्र स्थान भी माना जाता है। माचू पिच्चू को इंकाओं की पुरातन शैली में बनाया था जिसमें पॉलिश किये हुए पत्थरों का प्रयोग हुआ था। इसके प्राथमिक भवनों में इंतीहुआताना (सूर्य का मंदिर) और तीन खिड़कियों वाला कक्ष प्रमुख हैं।

इस स्थान की सबसे चर्चित जगह इन्का ट्रेल ट्रैक है। तीन दिनों का यह रास्ता श्वास-फूलने जैसी 4214 मीटर की ऊंचाई पर ले जाता है और इस रास्ते में बहुत से प्राचीन इन्का पत्थर भी दिखाई देते है। भू-क्षरण के डर से सरकार ने रास्ते की चढ़ाई करने वाले लोगों की संख्या सीमित कर दी है, अब इस रास्ते पर एक समय में केवल 500 लोग ही चढ़ाई कर सकते हैं। हर साल इन्का ट्रेल पर एक रेस भी होती है जो 26 मील की मैराथन के समान होती है। इस रेस को पार करने का अब तक का सबसे कम समय तीन घंटे 26 मिनट का है। बॉलीवुड की सबसे महंगी फ़िल्म इन्दिरन, जो 2010 में रिलीज हुई थी, उसका बहुत सा भाग यहीं पर शूट किया गया था, इस फ़िल्म में आपको माचू पिच्चू के बहुत से दर्शनीय स्थल देखने को मिलेंगे। यहां कुछ ही फिल्मों को शूटिंग करने की इजाजत मिली है।

Leave A Reply