Advertisements

मंगल पर भारी शनि: अपने आवास पर डॉक्टरों की तैनाती कर घिरे मंगल पांडे

- Advertisement -

mangal pandey: पटना। आईजीआईएमएस अस्पताल के डेक्लारेशन फॉर्म में कर्मचारियों की वर्जिनिटी पूछे जाने का मामला अभी शांत हुआ ही था कि बिहार के स्वास्थय मंत्री मंगल पांडे एक बार फिर विवादों में घिर गए हैं। इस बार मंगल पांडे पर आरोप लगाया जा रहा है कि उन्होंने अपने आवास पर 4 डॉक्टरों को नियुक्त कर रखा है। इसी बात को लेकर आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने मंगल पांडे पर हमला बोला है। मंगल पांडे द्वारा अपने आवास पर डॉक्टरों की नियुक्ति को लालू ने सत्ता का दुरुपयोग करार दिया है। लालू ने कहा कि, हमारे यहां जब डॉक्टर की प्रतिनियुक्ति हुई थी, तो बीजेपी ने हंगामा खड़ा कर दिया था।

लालू ने बीजेपी नेता सुशील कुमार मोदी के उस बयान को भी दोहराया जिसमें उन्होंने कहा था कि, आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव के घर पर डॉक्टरों की तैनाती पद का दुरूपयोग है। अगर लालू प्रसाद यादव की तबियत इतनी ज्यादा खराब थी तो उन्हें एयर लिफ्ट करना चाहिए था या कम से कम आईजीआईएमएस के आईसीयू में भर्ती करना चाहिए था।

mangal pandey: मेरे परिवार का कोई भी सदस्य वहां नहीं रहता

अपने आवास पर डॉक्टरों की तैनाती पर सफाई देते हुए बिहार के स्वास्थय मंत्री मंगल पांडे ने कहा कि, मैंने जैसे ही मंत्री पद संभाला, वैसे ही मेरे आवास पर चिकित्सा सहायता के लिए लोग आना शुरू हो गए। पांडे ने कहा कि, मेरा कार्यालय तैयार नहीं हुआ था और न ही अधिकारियों की नियुक्ति हुई थी। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग की मदद से मैंने अपने आधिकारिक निवास पर डॉक्टरों को नियुक्त किया। मेरे आवास पर आने वाले लोगों को डॉक्टरों ने केवल परामर्श दिया। उन्होंने कहा कि, मेरे परिवार का कोई भी सदस्य वहां नहीं रहता।

गौरतलब है कि महागठबंधन की सरकार के समय स्वास्थ्य मंत्री और लालू यादव के बेटे तेजप्रताप यादव ने भी अपने आवास पर डॉक्टरों की ड्यूटी लगा दी थी। जिसपर बीजेपी नेता सुशील कुमार मोदी ने कहा था कि लालू के बेटे बिहार के स्वास्थ्य मंत्री हैं तो पद का दुरूपयोग करते हुए केवल सर्दी, खांसी और दस्त जैसी मामूली बीमारियों के लिए दर्जनों डॉक्टरों की तैनाती कहां तक उचित है। आईजीआईएमएस में वैसे ही डॉक्टरों की कमी है। ऐसे में बेचारे डॉक्टरों को आठ-आठ दिन तक आवास पर तैनात करना कहां तक उचित है।

यह भी पढ़ें: Ramdev पर लिखी किताब पर लगा बैन, बाबा ने खुद ही रोक लगाने के लिए लगाई थी याचिका
Advertisements

- Advertisement -

%d bloggers like this: