Advertisements

महाफ्रॉड : पहले बैंक में गिरवी रखी, लोन लिया और फिर बेच दी जमीन और ट्रैक्टर

Men taken loan from a bank and sold the mortgadged property

0

- Advertisement -

ऊना। ऊना के पास जलग्रां टब्बा निवासी मनोज कुमार ने अपनी जमीन को आधार बनाकर न सिर्फ बैंक को ठगा, बल्कि गिरवी रखी जमीन को बाद में बेचकर मालामाल भी हो गया। बैंक की शिकायत पर मनोज और जमीन खरीदने वाले दीपक और सुरेंद्र कुमार के खिलाफ कोर्ट ने पुलिस को आईपीसी की धारा 420, 406, 467, 468 व 471 के तहत केस दर्ज करने के आदेश दिए हैं।

ऐसे अंजाम दिया इस महाफ्रॉड को

एसबीआई के अंब ब्रांच मैनेजर ईशान चौधरी ने बताया कि मनोज कुमार ने 29 अप्रैल 2013 को बसोली स्थित अपनी जमीन के आधार पर 15 लाख रुपये का लोन लिया। इसमें से 10 लाख रुपये सीसीएल और 5 लाख रुपये का कृषि लोन बनवाया। उसने लोन की कोई किस्त अदा नहीं की। जब बैंक ने गिरवी रखी गई जमीन को अपने कब्जे में लेने की प्रक्रिया शुरू की तो राजस्व विभाग से मिली जानकारी से अधिकारियों के होश फाख्ता हो गए। मनोज कुमार ने गिरवी रखी गई जमीन को 16 मई 2016 को चताड़ा निवासी दीपक कुमार को बेच दिया था। बैंक का आरोप है कि मनोज ने जानबूझकर जमीन बैंक के नाम नहीं करवाई और बैंक को झूठे शपथ पत्र द्वारा गुमराह करता रहा। बैंक ने गिरवी रखी हुई जमीन खरीदने पर दीपक कुमार सुरिंद्र कुमार के खिलाफ भी शिकायत की है।

ट्रैक्टर के नाम पर लिया लोन और बेच दिया

धोखाधड़ी के एक अन्य मामले में इसी बैंक से कुठेड़ा खैरला निवासी सोमनाथ भी लोन के नाम पर धोखाधड़ी की है। सोमनाथ ने 13 मई 2014 को बैंक से ट्रैक्टर का लोन लेने के लिए आवेदन किया। बैंक ने सोमनाथ को ट्रैक्टर खरीदने के लिए 5 लाख का टर्म लोन जारी किया था, जिस पर उसने बैंक से धोखाधड़ी करते हुए बिना बैंक की मंज़ूरी के ट्रैक्टर को किसी और को बेच दिया और बैंक का पैसा भी नहीं लौटाया।

Advertisements

- Advertisement -

%d bloggers like this: