भतीजी Kidnap : एक आरोपी POLICE की गिरफ्त में

पांवटा साहिब। फोन पर घर की इज्जत बचाने की एवज में 20 लाख रुपये की फिरौती मांगने के मामले में पुलिस ने अनवर अली निवासी भगवानपुर को गिरफ्तार कर लिया है। मामला चार 4 जनवरी को सामने आया था। इसके बाद आज आखिरकार पुलिस को सफलता हाथ लगी है। हालांकि अनवर अली ने बड़ी चौकसी से उत्तर प्रदेश के पते पर सिम लिया था। मगर मोबाइल का स्पीकर खराब हो गया। आरोपी ठीक करवाने पांवटा साहिब में भी एक मोबाइल दुकान पर पहुंचा। दुकानदार ने उसके मोबाइल में अपना सिम डाल लिया। मोबाइल एक्टिवेट हो गया। पुलिस पहले से ही नंबर पर नजर गड़ाए बैठी थी। चंद मिनटों में दुकान पर दबिश दे दी गई। यहीं से आरोपी अनवर अली की पहचान होते देर नहीं लगी। पुलिस ने भी एक्शन में देरी न करते हुए अली को दबोच लिया। पुलिस को अब एक युवती की तलाश है, जो मिश्रवाला के एक युवक के साथ नववर्ष मनाने के लिए उत्तराखंड के विकासनगर के एक होटल में ठहरी थी। इसी की आड़ में युवती के पिता से 20 लाख रुपये की फिरौती यह कहते हुए की गई थी कि घर की इज्जत बचाना चाहते हो तो पैसे दे दो।

  • मोबाइल एक्टिवेटशन के आधार पर चढ़ा पुलिस के हाथ

arrest-8डीएसपी भीष्म ठाकुर ने आरोपी को गिरफ्तार करने की पुष्टि की है। गौरतलब रहे कि घर की इज्जत बचाने की एवज में 20 लाख रुपये की फिरौती मांगने का एक मामला सामने आया था। इसके बाद पुलिस ने मिश्रवाला निवासी रसीद अली पुत्र दसोंधी खान की शिकायत पर आईपीसी की धारा 385 के तहत मामला दर्ज कर लिया है। शिकायतकर्ता रसीद अली ने पुलिस को बताया था कि 4 जनवरी को उसके मोबाइल नंबर 94180-60986 पर मोबाइल नंबर 96257-25112 से फोन आया कि उसका लड़का आरिफ उसकी नाबालिग भतीजी, जोकि पांवटा साहिब गुरुद्वारा में माथा टेकने गई थी, को बहला फुसलाकर विकासनगर ले गया और फोन करके कहा था कि यदि अपने घर की इज्जत बचाना चाहते हो, तो 20 लाख रुपये दो।

depressed-girlकैसे फसाता था युवतियों को जाल में
पहले गैंग ऐसे लोगों की तलाश करता था, जो आसानी से झांसे में आ जाएं। इसके बाद युवतियां ग्राहकों को फोन करना शुरू करेंगी। इसके बाद मिलने के लिए जगह तय कर दी जाती थी। इस मामले में खास बात यह थी कि युवती अपने ग्राहक से न तो टैक्सी या फिर होटल का खर्चा मांगती थी। इससे ग्राहक का विश्वास अधिक बढ़ जाता था। होटल में ठहरने के कुछ दिनों बाद ग्राहक बने लोगों से फिरौती की मांग शुरू हो जाती थी।

 

You might also like More from author

Comments