- Advertisement -

SCO सम्मेलन में बोले मोदी – दुनिया में स्थिरता लाएगी भारत-चीन दोस्ती

Modi says strong Sino India relationship will stabilize the world 

0

- Advertisement -

किंगदाओ। पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा है कि भारत और चीन के बीच दोस्ताना संबंध दुनिया में अमन-चैन और स्थिरता लाने वाले होंगे। शनिवार को चीन के यहां राष्ट्रपति शी चिनफिंग से मुलाकात के बाद अपने संबोधन में मोदी ने यह बात कही। मोदी शनिवार को ही SCO की बैठक में भाग लेने यहां पहुंचे थे। भारत को इस संगठन का पहली बार सदस्य बनाया गया है। 
पिछले 4 साल में मोदी की यह 14वीं चीन यात्रा है। इस दौरान पीएम मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग की मौजूदगी में दोनों देशों के बीच बाढ़ के आंकड़े उपलब्ध कराने और चावल के निर्यात के नियम सरल बनाने को लेकर समझौतों पर दस्तखत हुए। पहले समझौते में भारतीय राजदूत गौतम बंबावाले और चीनी उप विदेश मंत्री कोंग शौनयू ने हस्ताक्षर किए। इसके बाद दूसरे समझौते में गौतम बंबावाले और चीनी के मंत्री नी यूफेंग ने दस्तखत किए।
वुहान समिट के करीब 6 हफ्ते बाद ही दोनों SCO में एक बार फिर मिले हैं। पिछले साल डोकलाम गतिरोध के बाद सीमा पर बेहतर समन्वय बनाने और द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत करने के उद्देश्य से वुहान में पीएम मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग के बीच अहम मुलाकात हुई थी।
मोदी और शी के द्वारा व्यापार एवं निवेश के क्षेत्रों में संबंध मजबूत करने के रास्ते खोजने तथा द्विपक्षीय सहयोग की समीक्षा करने की उम्मीद है। दोनों नेताओं ने वुहान में अनौपचारिक वार्ता के दौरान एशिया की दो बड़ी शक्तियों के बीच संबंधों को मजबूत करने पर नजरिया साझा किया था। 

आतंकवाद पर होगी बात 

SCO सम्मेलन में आतंकवाद और कट्टरपंथ के खिलाफ जंग में सहयोग बढ़ाने के ठोस तरीके खोजे जाएंगे तथा वर्तमान वैश्विक मुद्दों पर विचार-विमर्श होगा। पीएम ने उज्बेकिस्तान के राष्ट्रपति से मुलाकात की और उनके बीच द्विपक्षीय बैठक भी हुई। यह पहली बार है जब भारत और पाकिस्तान को इस संगठन का पूर्ण सदस्य बनाए जाने के बाद भारत के प्रधानमंत्री एससीओ शिखर सम्मेलन में भाग ले रहे हैं। SCO के सदस्यों में चीन, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, रूस, ताजिकिस्तान, उज्बेकिस्तान, भारत और पाकिस्तान हैं।

- Advertisement -

%d bloggers like this: