सर्दियों में सुबह की सैर….जरा संभल कर

1

- Advertisement -

आम तौर पर सुबह की सैर हर मौसम में सेहत के लिए फायदेमंद है, लेकिन सर्दी के दिनों में यह कुछ खास फायदे देती है। यह न केवल अपके शरीर को गर्माहट देती है बल्कि मौसम की स्वास्थ समस्याओं से भी बचाए रखने में मददगार साबित होती है। हल्की-हल्की ठंड में सुबह की सैर हड्डियों के घनत्व को बढ़ाती है। टहलने से न केवल शारीरिक, बल्कि मानसिक क्षमता भी बढ़ जाती है एवं तनाव दूर होता है। लगती हुई ठंड में कम से कम प्रतिदिन 3 किलोमीटर एवं सप्ताह में 5 दिन अवश्य सैर करें। सैर करते समय प्रारंभ और अंत में हमेशा गति धीमी रखें। यही नहीं प्रातः भ्रमण के पश्चात हमें संतुलित आहार की ओर भी ध्यान देना होगा। मॉर्निंग वॉक वाले जल्दी जाने की बजाए सुबह सात बजे बाद मॉर्निग वॉक पर जाए।गर्म कपड़े पहनकर अचानक बाहर निकलना हार्ट के मरीजों के लिए खतरनाक भी हो सकता है। जिन्हें एक बार दौरा पड़ चुका है, उनमें दोबारा हार्ट अटैक की संभावना 50 फीसदी तक बढ़ जाती है। इसलिए हार्ट के मरीजों को इस समय सुबह की सैर से बचना चाहिए। अगर सुबह की सैर पर गए बिना आपका मन नहीं मानता तो वैसी स्थिति में एकदम सुबह न निकलकर जरा देर से टहलने के लिए निकलें। सैर पर निकलने से पहले अच्छी तरह गर्म कपडे़ पहनें, शॉल भी लें।ठंडा पानी न पीएं।गले में खराश होने पर उसे नजरअंदाज न करें। डॉक्टर की सलाह से एंटी एलर्जिक दवाएं लें।सर्दी में महिलाओं में चिलब्लेन की शिकायत रहती है। पानी में काम करने की वजह से व गलन की वजह से महिलाओं के हाथ व पैरो की अंगुलियों में सूजन तथा वे लाल पड़ जाती हैं। कई महिलाओं के तो फफोले भी पड़ जाते हैं। सर्दी के मौसम में बच्चों में निमोनिया के मामले बढ़ जाते हैं। व बच्चों में विटामिन ड़ी की कमी भी देखने को मिलती है।

- Advertisement -

Leave A Reply