Advertisements

नार्कोलेप्सी : कहीं पर कभी भी सो जाना ….

Narcolepsy is long-term neurological disorder involves decreased ability to regulate sleep-wake cycles

- Advertisement -

नार्कोलेप्सी एक तंत्रिका संबंधी विकार है। यह प्रक्रिया नींद से जुड़ी है जिसमें मांसपेशियां किसी होने वाले अटैक की भांति स्थिर हो जाती हैं। यह नींद से जुड़ी एक ऐसी समस्या है जिसमें मरीज कभी भी अचानक सो जाता है। मरीज़ अकसर अप्रत्याशित जगहों पर बैठे- बैठे सो जाता है। इतनी ही नहीं इस बीमारी के शिकार दिन भर उनींदे और थके हुए दिखाई देते हैं। मरीज जितना चाहे सो ले लेकिन ऐसा लगता है, जैसे वह सोया ही नहीं है।

Narcolepsy disorderयह बीमारी ज्यादातर 15 से 25 साल की उम्र के लोगों को अपना शिकार बनाती है। वैसे तो नार्कोलेप्सी का कोई इलाज़ नहीं है लेकिन कुछ दवाइयां लेकर और जीवनशैली में थोड़ा बदलाव लाकर मरीज़ सामान्य जीवन जी सकता है। सबसे सही यह है कि इसके शिकार व्यक्ति को अपने कर्मचारियों को और अपने अध्यापकों को इस बीमारी की सूचना दे देनी चाहिए ताकि उसके हिसाब से मरीज़ के लिए उचित व्यवस्था की जा सके। इसके अलावा मरीज़ को बहुत सावधान रहना चाहिए ताकि उसे अपनी बीमारी से कोई हानि ना पहुंच सके।

क्या करें अगर आप को है ये समस्या :

अगर आप इस बीमारी के शिकार हैं, तो आपके लिए सोने का शेड्यूल बनाना बहुत जरूरी है। हर रोज एक ही समय पर सोने के लिए बिस्तर पर जाएं और सुबह बिस्तर छोड़ें। बेडरूम में रीडिंग या फिर टीवी देखने जैसी एक्टीविटी न करें, इससे नींद में खलल पड़ सकता है। पूरे दिन के दौरान बराबर अंतराल पर नींद की छोटी छोटी झपकियां लें। ये झपकी 15-20 मिनट की हो सकती है। झपकी लेने से आपको ताज़गी महसूस होगी और अगले तीन चार घंटे के लिए आपको नींद नहीं आएगी।

कुछ लोगों को यदि अधिक जरूरत हो तो झपकी का समय बढ़ाया भी जा सकता है। कुछ लोगों को रात में अल्कोहल या फिर निकोटिन लेने की आदत होती है। अगर आपको नींद कम आने की बीमारी है या फिर नींद अधिक आने की बीमारी है, दोनों ही मामलों में निकोटिन और अल्कोहल का सेवन इन समस्याओं के लक्षण और बढ़ा सकता है। इसलिए इनका परहेज करें, खासतौर पर रात के समय।नियमित रूप से व्यायाम करना आपकी नींद की बीमारी को नियंत्रित कर सकता है। सोने से चार से पांच घंटे पहले अगर आप नियमित रूप से व्यायाम करने की आदत डाल लेते हैं तो आपको रात को बेहतर नींद आएगी और दिनभर आपको उनींदापन महसूस नहीं होगा।

Advertisements

- Advertisement -

%d bloggers like this: