- Advertisement -

मुंबई हमले में PAK की भूमिका को माना नवाज शरीफ ने 

Nawaz shrif accept pakistan's involvement in mumbai terror attack 

0

- Advertisement -

नई दिल्ली। करीब 8 साल तक टालमटोल करने के बाद पाकिस्तान के किसी आला नेता ने पहली बार माना है कि 2008 में मुंबई टेरर अटैक में पाकिस्तान की सक्रिय भूमिका थी। एक अखबार को दिए इंटरव्यू में पाकिस्तान के पूर्व पीएम नवाज शरीफ ने शनिवार को माना कि पाकिस्तान में अभी आतंकी संगठन सक्रिय हैं। उन्होंने सवाल किया,  “क्या हम उन्हें सीमा पार कर मुंबई में घुसकर 150 लोगों को मारने का आदेश दे सकते हैं? क्या कोई मुझे इस बात का जवाब देगा? हम तो केस भी पूरा नहीं चलने देते।”
नवाज शरीफ ने पद से हटने के 9 माह बाद इस सच्चाई को स्वीकार किया है। पाकिस्तानी अखबार द डॉन को दिए इंटरव्यू में कहा कि क्या हमें आतंकियों को सीमा पार जाने देना चाहिए और मुंबई में 150 लोगों को मारने देना चाहिए? शरीफ को पनामा पेपर केस में सुप्रीम कोर्ट ने पिछले साल 28 जुलाई को दोषी करार दिया था। इसके बाद उन्हें अपना पद छोड़ना पड़ा था। बता दें कि हाल ही में पाक ने 26/11 के मुंबई हमले की पैरवी कर रहे मुख्य वकील चौधरी अजहर को हटा दिया गया था। नवाज ने ये भी कहा, “अगर आप कोई देश चला रहे हैं तो उसी के साथ में दो या तीन समानांतर सरकारें नहीं चला सकते। इसे बंद करना होगा। आप संवैधानिक रूप से केवल एक ही सरकार चला सकते हैं।

नवाज को पिछले साल जुलाई में देना पड़ा था इस्तीफा

पनामा पेपर लीक मामले में नवाज का नाम आने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने पिछले साल 28 जुलाई को उन्हें दोषी पाया था। उन्हें प्रधानमंत्री पद के लिए अयोग्य घोषित कर दिया था। जिसके बाद नवाज को इस्तीफा देना पड़ा था। इसके बाद अप्रैल में पाकिस्तान सुप्रीम कोर्ट ने शरीफ पर आजीवन चुनाव लड़ने पर रोक लगा दी। उन्हें संविधान की धारा 62 (1)(एफ) के तहत अयोग्य करार दिया। इसके बाद वे कोई भी सार्वजनिक पद पर नहीं रह पाएंगे।

कब हुआ था मुंबई आतंकी हमला?

26 नवंबर 2008 को लश्कर-ए-तैयबा के 10 आतंकवादी मुंबई के ताज होटल में घुस गए और चार दिनों तक वहां कब्जा जमाए रखा था। शहर के सात जगहों पर फायरिंग की थी। इस हमले में करीब 166 लोग मारे गए थे, जबकि 300 लोग घायल हो गए थे।

- Advertisement -

Leave A Reply