Browsing Category

साहित्य

literature-and-culture-news

एक हवा महकी सी

फिर साढ़े सात बजे हैं, अचानक ही अनवर की नज़र आसमान पर चली गयी है। ठीक इसी वक्त रोज एक हवाई जहाज उसकी छत से हो कर…

एक रात के साथी

अजीब सी हालत में फंस गए थे सब लोग। कांगड़ा से बस चली थी, तो सिर्फ तेज बारिश थी, पर यह कोई नई बात नहीं थी। ऐसा तो रोज…

पोस्टमैन

लिफाफे के बाहर पता यों लिखा हुआ था : सोसती सिरी सरबोपमा - सिरीमान ठाकुर जसोतसिंह नेगी, गांव प्रधान - कमस्यारी गांव…

शाह की कंजरी

उसे अब नीलम कोई नहीं कहता था, सब शाह की कंजरी कहते थे। नीलम को लाहौर हीरामंडी के एक चौबारे में जवानी चढ़ी थी और…

चन्दन गंधा

बस पहाड़ से हो कर अब मैदानी भाग की तरफ बढ़ रही थी। खिड़की के बाहर पलाश के फूलों की रंगीनियां थीं और फूलों के उस घने…

रावी धीरे बहो …

शहर में नई आई नंदना को आश्चर्य तो हुआ, पर वह इसलिए चली गई क्योंकि आज सर्वेश दा का जन्मदिन था। सर्वेश दा ने तय किया…

चोर-सिपाही

उस दिन रेनी डे हो गया था बच्चे घर जल्दी पहुंच गए तो समझ में नहीं आ रहा था कि खाली समय में क्या करें । थोड़ी देर तक…

चने की थैली

चीन के किसी गांव में बारिश अचानक जैसे मुसीबत ही लेकर आई। रात भर में ही पूरा गांव पानी से भर गया। सभी अपना सामान…