Browsing Category

साहित्य

literature-and-culture-news

माता का जंगल

घाघरा नदी के किनारे बसा हुआ एक छोटा सा गांव। वह भरी दोपहर थी... गर्मी के इन दिनों में पशुओं को चराने के लिए काफी…

अगस्त के फूल

बहुत पहले की बात है एक घर में एक प्यारी सी लड़की हिमानी अपनी दो सौतेली बहनों और सौतेली मां के साथ रहती थी। वे सब…

सबसे अच्छी दिवाली

दिवाली को बस चार दिन रह गए थे सोनू और गुड़िया दोनों ही बेहद खुश थे। दोनों बार-बार अपनी गुल्लकें खनकाते और अंदाजा…

सोने का हाथ

उस शाम जब बच्चे घर में ज्यादा ही उधम मचाने लगे तो नानी ने पारुल का हाथ पकड़ा और उसे अपने पास बैठा लिया। -मैं तुम…

परदेस की गलियां

मंगल का दिन था जाने क्या बात थी कि इस दिन शहर से सात लाशें उठीं। ऐसा लगा जैसे श्मशान जाग गया हो। कोई एक्सीडेंट नहीं…

मेरे साथ चलोगी…

टेलीविज़न पर मुंबई और दिल्ली दोनों ही शहर पानी से सराबोर होते दिखाई दे रहे थे। पानी सड़कों पर इस तरह भरा था कि किसी…

गुनगुन की उड़ान

लगातार एक हफ्ते से बारिश हो रही थी और बाहर निकलना भी मुश्किल हो गया था। चिड़िया अपने बच्चे को पंखों में छिपाए सोच…

उस रात के बाद…

उस बिल्डिंग में रहने वाले लोग शहर में बहुत पॉपुलर थे, पर उनकी निजी जीवनशैली एकदम अलग थी। वे हमेशा वीकएंड नए तरह से…

इंद्र देव के घोड़े

वे तीन भाई थे, जिनमें छोटा बहुत होशियार था। उसके किसान पिता भी उसका ज्यादा भरोसा करते थे। इसलिए मरने से पहले…