Advertisements

अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ के चुनावों का बजा बिगुल : अध्यक्ष का फैसला 15 April को

Non-gazetted employees union elections : खंड स्तर पर 17 मार्च तक पूरा करना होगा सदस्यता अभियान

- Advertisement -

Non-gazetted employees union elections: शिमला। प्रदेश में सबसे बड़े कर्मचारी संगठन को जल्द ही नया सरताज मिल जाएगा। कर्मचारी महासंघ के चुनावों का बिगुल बज गया है। प्रदेश में 15 अप्रैल को महासंघ का नया अध्यक्ष चुन लिया जाएगा। बहरहाल, महासंघ की बिलासपुर में गठित तदर्थ कमेटी ने महासंघ के चुनाव का कार्यक्रम जारी  कर दिया है। हिमाचल प्रदेश अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ की तदर्थ कमेटी के अध्यक्ष विनोद कुमार ने आज यहां पत्रकार वार्ता में अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ के चुनाव का शैड्यूल जारी किया। उन्होंने कहा कि खंड स्तर पर सदस्यता अभियान पूरा करने की तिथि 17 मार्च है और चुनाव पूर्ण करने की अंतिम तिथि 20 मार्च है। उन्होंने कहा कि जिला व विभागीय संगठनों को 3 अप्रैल तक अभियान पूरा करना है और 5 अप्रैल तक चुनाव करवाने हैं। उनका कहना था कि महासंघ की राज्य कार्यकारिणी का गठन 15 अप्रैल तक हो जाएगा। उन्होंने कहा कि ये चुनाव सभी जिलों के लिए नियुक्त संयोजकों की देखरेख में पूरे होंगे। विनोद कुमार ने कहा कि महासंघ के पूर्व अध्यक्ष एसएस जोगटा ने पांच वर्ष के दौरान कोई फैडरल हाउस नहीं करवाया और जबकि महासंघ के संविधान के मुताबिक यह हर तीन माह में होनी जरूरी है। उन्होंने कहा कि बिलासपुर में 11 फरवरी को महासंघ के नेताओं की बैठक में महासंघ के अध्यक्ष और महासचिव को नोटिस भेजा गया था और 10 दिन में चुनावी कार्यक्रम जारी करने को कहा था, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया। इससे लगता है कि वे चुनाव नहीं करवाना चाहते और महासंघ पर अपना कब्जा बनाए रखना चाहते हैं। इसे देखते हुए तदर्थ कमेटी ने चुनाव कार्यक्रम जारी करने का फैसला लिया और इसे आज जारी कर दिया।

Non-gazetted employees union elections

गुटबाजी छोड़ एक मंच पर आए कर्मचारी

कर्मचारी नेता विनोद कुमार ने सभी कर्मचारी नेताओं से महासंघ के चुनाव में हिस्सा लेने की अपील की है। उन्होंने कहा कि उनका मकसद कर्मचारियों की समस्याओं को सरकार तक पहुंचाना है और इसके लिए ही महासंघ का गठन किया गया था, लेकिन बीच में कुछ चाटुकार नेता महासंघ में आ गए और इससे महासंघ का स्तर गिर गया। उनका कहना था कि सभी कर्मचारियों को गुटबाजी छोड़ एक मंच पर आना चाहिए।

जनजातीय हलकों में काम करने वालों कर्मचारियों को मिले अग्रिम वेतन

विनोद कुमार ने विपक्षी कांग्रेस द्वारा तबादलों को को लेकर सरकार पर किए जा रहे हमलों को गलत करार दिया है। उन्होंने कहा कि पूर्व कांग्रेस सरकार के राज में कर्मचारियों को प्रताड़ित किया जाता रहा है और उस समय राजनीतिक प्रतिशोध की भावना से तबादले होते थे। उन्होंने पूर्व सरकार द्वारा जनजातीय हलकों में काम करने में कर्मचारियों को अग्रिम वेतन न देने को लेकर लिए गए फैसले को गलत बताते हुए राज्य की नई सरकार से मांग की है कि इसे बहाल किया जाए। उन्होंने कहा कि राज्य की नई जयराम ठाकुर सरकार ने पूर्व कांग्रेस सरकार के कार्यकाल के दौरान प्रताड़ित हुए कर्मचारियों को मामलों को 28 फरवरी तक सैटल करने को कहा है और उम्मीद है कि ऐसे कर्मचारियों के सभी मामलों को सुलझा दिया जाएगा। उनका कहना था कि कुछ मामलों को सरकार ने सुलझा कर कर्मचारियों को राहत दी है। विनोद कुमार ने कहा कि जहां तक उनका मामला है, उसके भी जल्द सुलझने की उम्मीद जताई है। उन्होंने कहा कि उनकी बर्खास्तगी को लेकर जो आदेश दिए गए हैं वह शक्तियों का दुरूपयोग कर दिए गए हैं और यह मामला सरकार के संज्ञान में है। उनका कहना था कि कुछ अफसरों की सोच अभी भी पूर्व कांग्रेस सरकार के कार्यकाल की तरह चल रही है और उसी सोच में गलत आदेश दिए गए हैं।
Advertisements

- Advertisement -

%d bloggers like this: