Advertisements

SHO पर मारपीट का आरोप, गुस्साए लोगों ने किया प्रदर्शन, मांगनी पड़ी माफी

- Advertisement -

नाहन। देवभूमि हिमाचल में एक बार फिर खाकी को लोगों के गुस्से का सामना करना पड़ा। मामला सिरमौर जिला के राजगढ़ क्षेत्र है। राजगढ़ थाने के एसएचओ पर एक व्यक्ति के साथ मारपीट करने के आरोप लगे हैं। लिहाजा, गुस्साए लोगों ने राजगढ़ कस्बे में जमकर प्रदर्शन किया और पुलिस व एसएचओ के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। व्यक्ति के साथ कि गई मारपीट में गुस्साए लोग तब शांत हुए, जब एसडीएम के हस्तक्षेप के बाद एसएचओ ने अपनी गलती मानते हुए सार्वजनिक तौर पर माफी मांगी।

दरअसल, एक व्यक्ति ने एसएचओ राजगढ़ पर उसके साथ मारपीट करने का आरोप लगाया। बाद में उसके खिलाफ झूठा मामला दर्ज किए जाने की धमकी दी गई और थाने में शिकायत दर्ज न किए जाने के आरोप लगाए है। इसके बाद स्थानीय लोग भड़क गए और बाजार में जोरदार प्रदर्शन किया, बल्कि इस बाबत प्रशासन को भी शिकायत सौंपी। साथ ही सैंकड़ों लोगों ने पुलिस थाना पहुंच कर जोरदार नारेबाजी और प्रदर्शन भी किया। 

एसडीएम खुद गुस्साए लोगों से बात करने पहुंचे थाने

इससे पहले की बात आगे बढ़ती एसडीएम खुद गुस्साए लोगों से बात करने के लिए पुलिस थाना पहुंचे और मामले को शांत करवाने का प्रयास किया। मामला तब तक ठंडा नहीं हुआ, जब तक थाना प्रभारी ने सार्वजनिक रूप से सबके सामने माफी नहीं मांगी। मामले के पीड़ित जोगिंद्र सिंह जग्गी द्वारा प्रशासन को दिए गए पत्र में बताया गया है कि गत शाम जब वह और कुछ अन्य लोग कोटली स्थित एक ढाबे पर खाना खा रहे थे तो इसी दौरान थाना प्रभारी पुलिस जीप में दो अन्य कर्मचारियों के साथ वहां आए और उसके साथ मारपीट करनी शुरू कर दी।

जब पीड़ित व्यक्ति ने अपने साथियों को मारपीट किए जाने की वीडियो बनाने का अनुरोध किया तो थाना प्रभारी उसे घसीट कर ढाबे से बाहर लेकर आए और फिर से मारपीट की। सुबह जब जोगिंद्र सिंह थाना प्रभारी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करवाने थाने गया गया तो उसके खिलाफ थाना प्रभारी झूठा मुकदमा बनाने और हवालात में डालने के लिए पुलिस कर्मचारियों को कहा।

पीड़ित व्यक्ति यह सुन पुलिस थाना से आ गया और इस बारे व्यापार मंडल और अन्य लोगों से बात की। बस फिर क्या था, इसके बाद सैकड़ों लोग सड़क पर उतर आएं और नारे लगाते हुए एसडीएम, डीएसपी के कार्यालय गए, लेकिन अधिकारी अवकाश के चलते उपलब्ध नहीं हुए, तो अंत में नायब तहसीलदार को शिकायत पत्र सौंपा। उसके बाद फिर यह रैली पूरे शहर से हो कर सोलन रोड स्थित पुलिस थाने पहुंचा, जहां युवाओं ने केवल अपना गुस्सा एसडीएम एसडी नेगी के समक्ष निकाला, बल्कि एसडीएम के दखल के बाद थाना प्रभारी ने सार्वजनिक रूप से माफी मांगी और तब मामला शांत हुआ।

यह भी पढ़ें : कार्रवाईः Kala Amb में रंगे हाथ पकड़ा रिश्वतखोर हवलदार

Advertisements

- Advertisement -

%d bloggers like this: