घर की नकारात्मक ऊर्जा को करें दूर

0

आपने देखा या खुद महसूस किया होगा कि किसी पुराने मकान या पुरानी हवेली में निवास करने वाले लोग अकसर भय व आतंक के माहौल में जीते हैं। वे प्रायः शिकायत करते हैं कि हवेली में भूत रहता है, जो अकसर घर के सदस्यों को परेशान करता रहता है, भूत रात्रि में विचरण करता है आदि-आदि, लेकिन क्या असल में वहां भूत या प्रेत रहता है या नहीं? दरअसल उस मकान में नकारात्मक ऊर्जा का विचरण होता रहता है, जो उस घर में पहले ही आकर बस चुकी होती है। ऐसे मकानों में कभी-कभी विभिन्न प्रकार की गंध,अगरबत्ती की खुशबू, अथवा किसी छाया का धुंधला आभास होता है, जो प्रायः कृष्ण पक्ष में ही होता है और इसके परिणामस्वरूप घर में निवास करने वाले सदस्यों का जीवन तबाह होता रहता है। अगर आप किसी पुराने घर में रह रहे हैं और आपके साथ ऐसी परेशानियां आ रही हैं तो निम्न उपाय अवश्य करें।

  • मकान की लॉबी में हर रोज संध्या के समय किसी धातु की कटोरी में कपूर की एक छोटी-सी टिकिया जलाएं। कुछ ही दिनों में मकान से नकारात्मक ऊर्जा का अन्यत्र पलायन शुरू हो जाएगा।
  • यदि आपका संयुक्त परिवार बिखर गया है, आप अकेलेपन से पीड़ित रहते हैं, घर में बहुत कम सदस्य रह गए हों अथवा उस लंबे चौड़े मकान में केवल पति-पत्नी ही रहते हों, पति अक्सर टूर पर रहते हैं, तो पत्नी को चाहिए कि हर शाम मकान में धीमी आवाज में कोई भजन-कीर्तन या धार्मिक कैसेट बजाएं। इससे उनकी उदासी दूर होगी। मकान काटने को नहीं दौड़ेगा।
  • यदि आपके मकान का प्रवेश द्वार किसी नकारात्मक दिशा में स्थित हो, तो वहां सकारात्मक ऊर्जा के प्रवाह को सुनिश्चित करने के लिए प्रवेश द्वार की दाईं एवं बाईं तरफ काली तुलसी के पौधे लगा दें।
  • हर रोज शाम को अगर साफ-सफाई करने के बाद अगर घर के बाहर दीया जलाते हैं तो नकारात्मक ऊर्जा का प्रवेश नहीं होता और बुरी आत्माएं दूर रहती हैं।
  • घर में हर रोज नियम से 15 से 20 मिनट का मंत्रोच्चारण करें। अगर आपके पास समय नहीं है, तो आप म्यूजिक सिस्टम पर भी मंत्र को चला सकते हैं। ऐसा करने से घर के हर सदस्य का मन शांत रहता है और घर में सकारात्मक ऊर्जा आती है।
  • घर में विंड चाइंम्स जरूर लगानी चाहिये। घर में अगर अगर नकारात्मक ऊर्जा प्रवेश कर भी चुकी है तो विंड चाइंम्स से उत्पन्न होने वाली ध्वनि की तरंगे नकारात्म्क ऊर्जा की तरंगों को छितरा देती हैं और उसका प्रभाव कम कर देती हैं।

You might also like More from author

Leave A Reply