- Advertisement -

स्कूटी सवार को बचाते नाली में फंसी स्कूल बस

दो बच्चों को हल्की चोटें आईं

0

- Advertisement -

ऋषि महाजन/ नूरपुर। स्कूल बस का बड़ा हादसा होते बाल-बाल बचा। नूरपुर तहसील के एक निजी स्कूल की बस स्कूटी सवार को बचाते-बचाते सड़क किनारे नाली में फंस गई। हादसे में दो बच्चों को मामूली चोटे आईं हैं। इस घटना से बच्चे इतने घबरा गए कि स्कूल जाने की बजाए अपने मां-बाप को फोन पर उन्हें घर ले जाने के लिए कहने लगे। गनीमत यह रही कि बस सड़क से नीचे नहीं लुढ़की, अन्यथा बड़ा हादसा हो सकता था।

32 सीटर बस में 40 के करीब बच्चे सवार थे। बताया जा रहा है कि सुबह नूरपुर के निजी स्कूल की बस बच्चों को लेकर स्कूल जा रही थी। इस दौरान बस अनियंत्रित हो गई और सड़क किनारे अटक गई। घटना में कुछ बच्चों को हल्की चोटें आई हैं। इसके के बारे में जब ग्रामीणों को पता चला तो वह मौके पर पहुंचे और स्कूल प्रशासन को जमकर लताड़ लगाई। ग्रामीणों ने बस चालक पर लापरवाही का आरोप लगाया है।

नूरपुर में पहले भी हो चुका है बस हादसा

बता दें कि इसी वर्ष नौ अप्रेल को नूरपुर के चेली गांव में एक निजी स्कूल बस हादसे में 24 मासूमों समेत कुल 28 लोगों को जान गंवानी पड़ी थी। इसके बाबजूद भी स्कूल प्रशासन के कानों तक जू नही रेंग रही है। कुछ निजी स्कूल बाले कानून की सरेआम धज्जियां उड़ा रहे हैं और मासूम बच्चों की ज़िंदगी के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं। वहीं, स्कूल के प्रबंधक जगदीश सिंह से इस सारी घटना के बारे में पूछा तो उन्होंने बताया कि ऐसी कोई भी बात नहीं है। स्कूल की बस सामने से आ रही स्कूटी को बचाते-बचाते साथ में बनी छोटी नाली में फंस गईं। अगर बस ड्राइवर स्कूटी सवार को नहीं बचाता तो स्कूटी बस के नीचे आ जानी थी। बस ड्राइवर की चतुराई से बस दुर्घटनाग्रस्त होते-होते बच गई।

सूचना मिलते है नूरपुर के नायब तहसीलदार देसराज को तुरंत स्कूल पहुंचे और स्कूल प्रबंधक से इस सारे मामले की पूछताछ की। उन्होंने बताया कि अगर किसी भी व्यक्ति के द्वारा उन्हें स्कूल या स्कूल प्रबंधक की शिकायत मिलती है तो वह इस मामले पर जरूर कार्रवाई करेंगे। उन्हें इतना मालूम चला है कि बस में बच्चे ज्यादा थे, इसके लिए उन्होंने स्कूल प्रबंधक को लताड़ लगाई है।

- Advertisement -

%d bloggers like this: