- Advertisement -

20 फीसदी की वेतन बढ़ोतरी के बाद माने सैहब कर्मी, काम पर लौटे

0

- Advertisement -

लोकिन्दर बेक्टा/शिमलासैहब सोसायटी के कर्मचारियों ने आखिर अपनी हड़ताल समाप्त कर ही दी। सैहब कर्मचारियों के वेतन में 20 फीसदी की बढ़ोतरी के बाद कर्मचारी माने और नगर निगम को इन कर्मचारियों के आगे झुकना पड़ा। गुरुवार सुबह से नगर निगम प्रशासन सैहब कर्मचारियों की हड़ताल को समाप्त करने के लिए लगे थे। निगम के अफसर भी इसमें लगे थे और शाम को मेयर के कार्यालय में इनकी मांगों पर विचार हुआ और जब नगर निगम प्रशासन ने कहा कि उनके वेतन में 20 फीसदी की बढ़ोतरी होगी, तो जाकर कर्मचारी माने और फिर इनकी हड़ताल वापस हुई। इन कर्मचारियों को अक्टूबर माह में ही 20 फीसदी बढ़ोतरी के साथ वेतन मिलेगा। इस घोषणा के बाद कर्मचारियों ने भी हड़ताल समाप्त करने की घोषणा में देर नहीं की। देरशाम दोनों पक्षों में लिखित समझौता होने के बाद कर्मचारियों ने अपनी हड़ताल वापस ले ली।

बीते 10 दिनों से हड़ताल पर चल रहे थे सैहब कर्मचारी

गौर हो कि पिछले करीब 10 दिनों से इन सैहब कर्मचारियों की हड़ताल के चलते शहर में डोर-टू-डोर गारबेज कलेक्शन का कार्य पूरी तरह ठप हो गया था और लोगों को दिक्कत का सामना करना पड़ रहा था। सैहब सोसायटी में 550 कर्मचारी कार्यरत हैं और इनके हड़ताल पर जान से डोर-टू-डोर गारबेज कलेक्शन का कार्य ठप हो गया था और इस कारण लोगों को घरों में रखे कूड़े को ठिकाने लगाने में दिक्कत हो रही थी। वैसे नगर निगम ने कूड़े को उठाने के लिए कलेक्शन प्वाइंट बनाए थे, लेकिन ये नाकाफी थी और इससे समस्या बढ़ गई थी। इसके बाद कल नगर निगम ने इन कर्मचारियों को 24 घंटे का अल्टीमेटम देकर ड्यूटी ज्वाइन करने को कहा था और ऐसा न करने पर इनकी सेवाएं समाप्त करने की बात कही थी। वहीं, सैहब कर्मचारियों ने भी अगले कल से भूख हड़ताल करने का ऐलान कर दिया था।

उधर, सैहब कर्मचारी यूनियन के प्रधान जसवंत सिंह ने कहा कि नगर निगम ने उनकी वेतन बढ़ोतरी की मांग मंजूर कर ली है। इसे लेकर लिखित समझौता हो गया है। इसके बाद उन्होंने अपनी हड़ताल वापस ले ली है और कल से वे काम पर लौट जाएंगे। वहीं, नगर निगम मेयर ने कहा कि सैहब कर्मचारियों की वेतन बढ़ोतरी की मांग मान ली गई है और उनकी हड़ताल समाप्त हो गई है।

यह भी पढ़ें : MC Shimla @ एजीएम में नहीं पहुंचे सुधीर शर्मा

- Advertisement -

%d bloggers like this: